मिट्टी में खेलकर कुसुम बनी किक बॉक्सिंग रिंग की शेरनी, जीते 200 से ज्यादा पदक
February 16th, 2020 | Post by :- | 468 Views

बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)

समाजसेवी रमेश राठी ने गोल्ड मेडलिस्ट कुसुम, सिल्वर मैडल संदीप लोहचब का भव्य स्वागत करके पलकों पर बिठाया

हरियाणा प्रदेश की जानी मानी किक बाक्सिंग खिलाड़ी कुसुम (20 वर्षीय) ने 70 किलोग्राम भार वर्ग में गोल्डमैडल, संदीप लोहचब (17 वर्षीय) ने सिल्वर मैडल जीतकर हरियाणा प्रदेश के साथ देश का गौरव बढ़ाया हैं। कोच जयवंत सिंह ने बताया कि दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित इंडियन ओपन इंटरनेशनल चैंपियनशिप में 30 देशों ने भाग लिया था जिसमें जिला झज्जर की बेटी व बेटे ने महारत हांसिल की है। अंतरराष्ट्रीय किक बॉक्सिंग खिलाड़ी बेटी कुसुम, बेटे संदीप लोहचब, कोच जसवंत सिंह का बहादुरगढ़ पहुँचने पर पूर्व चेयरमैन कर्मवीर राठी कार्यालय पर समाजसेवी रमेश राठी ने फूलमाला पहनाकर व प्रोत्साहन राशि देकर भव्य स्वागत किया।

 

समाजसेवी रमेश राठी ने बताया कि इंडियन ओपन इंटरनैशनल किक बाक्सिंग प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए स्वर्णपदक जीत कर देश और प्रदेश का नाम रोशन किया जो हमारे लिए गौरव की बात हैं। रमेश राठी ने कहा कि आज की बेटियां किसी भी मामले में बेटों से कम नहीं है। इतने पदकों को देखकर उनकी मेहनत और जज्बे को सलाम करते हैं। वहीं उन्होंने कहा कि भविष्य में बेटी कुसुम व अन्य खिलाड़ी की हर संभव मदद के लिए वह तैयार हैं।

देश की झोली में पदकों की बारिश : अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी कुसुम का सफरनामा उनकी जुबानी…

20 वर्षीय किक बॉक्सिंग अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी कुसुम ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि उन्होंने देश के लिए 200 से ज्यादा स्वर्ण, सिल्वर, कांस्य पदक जीते है। उनकी शुरुआत खेलों में साल 2014 से 14 वर्ष की उम्र से हुई। उन्होंने 2015 में पुणे में आयोजित एशियन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता। साल 2016 में रसिया में आयोजित वर्ल्ड चैंपियनशिप में सिल्वर पदक जीता, इस प्रतियोगिता में 121 देशों ने भाग लिया था। 2017 में आयोजित सर्बिया आर्यलैंड में सिल्वर मैडल मिला। 2018 में हंगरी में भाग लिया लेकिन चोट लगने की वजह से प्रतियोगिता नही जीत पाई। 2019 में बोसनिया में कांस्य पदक जीता। वही अब 2020 दिल्ली में इंडियन ओपन इंटरनेशनल किक बॉक्सिंग में स्वर्ण पदक जीता हैं।

गरीबी के अभाव, सुविधाएं न होने के कारण खिलाडियों की प्रतिभा दब रहीं : कोच जसवंत सिंह

किक बॉक्सिंग अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी कुसुम के कोच जसवंत सिंह ने कहा कि गरीबी के अभाव, सुविधाएं न मिलने से न जाने कुसुम की तरह कितने खिलाडियों की प्रतिभा दब जाती हैं, ऐसे में सरकार को खिलाड़ियों के लिए हर संभव मदद करनी चाहिए ताकि प्रतिभावान खिलाड़ी देश के लिए खेलकर पदक जीतकर देश व हरियाणा का नाम रोशन कर सकें। उन्होंने खिलाड़ियों के लिए सरकार से खेल स्टेडियम, खेल समान और आर्थिक सहायता की मांग की हैं। इस अवसर पर पार्षद पति राजेश तंवर, ईश्वर सिंह, रितेश छिकारा, संजीव बुद्धवार, कमल राठी, विकास, राजेंद्र यादव, मनमोहित गुप्ता, मास्टर सतीश शर्मा, भरत सिंह, रवि कुमार आदि लोगों ने खिलाड़ियों का स्वागत किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।