मुख्यमंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री के हाथों कोंडागांव जिले के 4 स्वास्थ्य केंद्र को मिला पुरस्कार
August 30th, 2019 | Post by :- | 156 Views

कोंडागांव(नरेश गोलछा )--कायाकल्प योजना 2018-19 के तहत कोण्डागांव जिले के 4 स्वास्थ्य केन्द्र जिनमें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र विश्रामपूरी एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र श्रेणी में अड़ेंगा, अनंतपुर और सलना की पीएचसी को पुरस्कार मिला है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री टी.एस.सिंहदेव ने विगत् दिवस मेडिकल कालेज रायपुर के आडिटोरियम में आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह में जिले के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की टीम को पुरस्कार प्रदान कर सम्मानित किया। जिला कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने इन पुरस्कारों को जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार और मरीजों को ईलाज के लिए बेहतर वातावरण उपलब्ध कराने की दिशा में सकारात्मक परिणाम बताया है और जिले के स्वास्थ्य अमले को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।

ज्ञातव्य है कि कायाकल्प योजना अर्थात स्वच्छ अस्पताल योजना में शासकीय अस्पतालों एवं स्वास्थ्य केंद्रों में स्वछता, संक्रमण नियंत्रण एवं साफ-सफाई को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2015 से योजना प्रारंभ की गई है। इस योजना के तहत लोक स्वास्थ्य संस्थाओं में गुणवत्ता को बढ़ावा देने के लिए मानकों के अनुरुप सेवाएं प्रदाय किए जाने वाले अस्पतालों को राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर क्वालिटी सर्टिफिकेट प्रदान किया जाता है। योजना के तहत अस्पतालों को 6 मानकों जिसमें अस्पताल का रख-रखाव, साफ-सफाई, वेस्ट-प्रबंधन, संक्रमण नियंत्रण, सपोर्ट सुविधाएं, हायजीन प्रमोशन पर खरा उतरना पड़ता है। कायाकल्प योजना के तहत जिला चिकित्सालय श्रेणी में प्रथम पुरस्कार 50 लाख रुपए और द्वितीय 20 लाख रुपए और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को अलग-अलग श्रेणी के आधार पर पुरस्कार प्रदान करने के साथ-साथ स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले कर्मचारियों को भी पुरस्कृत किया जाता है। इस क्रम में जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एस. के.कनवर एवं डीपीएम सोनल ध्रुव सहित स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा मुख्यमंत्री के हाथो पुरस्कार ग्रहण किया गया।

 

 

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।