मेवात विकास सभा का धरना 18 वें दिन जारी  , गंगा जमुनी तहजीब को नूकसान पहुंचा रहा सीएए-एनआरसीः याहया सैफी
February 16th, 2020 | Post by :- | 93 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।   बड़कली चौक पर मेवात विकास सभा और मेवात आरटीआई मंच के द्धारा चलाये जा रहे नागरिकता संसोधन कानून (सीएए), एनआरसी व एनपीआर के खिलाफ धरना का 18 वा  दिन जारी रहा। इस दौरान अलवर तिजारा के मेवात युवा संगठन के सदस्यों ने बडकली चौक धरना को अपना समर्थन दिया। संबोधित करते हुए आॅल इंडिया सैफी समाज के महासचिव मोहम्मद याहया सैफी ने कहा कि संविधान देश की सदियों पुरानी गंगा जमुनी तहजीब को संभालता आ रहा। लेकिन भाजपा सरकार में बैठे कुछ ओछी मानसिकता के लोगों ने संविधान में नागरिकता कानून में संशोधन कराके देश  संस्कृति को तोड़ने का काम किया है। ये वही तहजीब है जिसने देश को पूरी दुनिया मे जाना जाता है। उन्होंने बताया कि ये सरकार देश की खूबसरती को खत्म करना चाहती है हम संविधान प्रेमी इनके गलत मंसूबों को कामयाब नहीं होने देंगे। चाहे उसके लिए हमें कोई भी कुर्बानी देनी पड़े। मुफ्ती सलीम साकरस, उमर पाडला पूर्व प्रधान, सद्दीक अहमद मेव संरक्षक, हाफिज इमरान जैताका, शाबिर, सकील मेवात युवा संगठन तिजारा, मौलाना जफरुद्दीन इल्यासी, मुबारिक सांठावाड़ी, शिबली अर्सलान, इम्तियाज एडवोकेट, अजहर खान, जीत खान, सिका कुरैसी, दीन मोहम्मद जलालपुर , जान अमान, सरवर मेव संस ऑफ मेवात ने भी सम्बोधित किया। धरने पर सलामूदीन एडवोकेट नोटकी प्रधान मेवात विकास सभा, रमजान चौधरी पूर्व प्रधान, मेवात आरटीआई मंच अध्यक्ष राजुद्दीन मेव, साबिर कासमी, आजाद नांगल, जावेद नगीना, हाजी अली मोहम्मद, सूबेदार नगीना, मुस्तुफा नगीना, मुबारिक मांडीखेड़ा, सरफू नगीना, ईसब जलालपुर, अफजल जलालपुर, अख्तर झारोकडी, हाजी सिरदार, गफ्फार काटपुरी, आरिफ गोरवाल, वारिस मेव, अब्दुल्ला पाडला, मुस्तुफा नूंह, अलताफ बिलावत, नाजिम अटेरना, सराफत नांगल आदि सैंकड़ों लोग एवं औरतें शामिल रही।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।