स्टेट क्राइम ब्रांच ने लाम्बाहरिसिंह में ड्रग माफिया को गिरफ्तार कर 272 किलो डोडा-पोस्त किया जब्त
February 14th, 2020 | Post by :- | 79 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । राज्य सरकार के माफियाओं पर कार्यवाही के निर्देशो की पालना में पुलिस मुख्यालय की अपराध शाखा ने शुक्रवार को मालपुरा (टोंक) से किशनगढ (अजमेर) तक अफीम डोडा पोस्त की नियमित सप्लाई करने वाले एक चाचा भतीजा माफिया के खिलाफ कार्यवाही कर सांवरिया गांव में 272 किलोग्राम अफीम डोडा-पोस्त जब्त कर बडी कार्यवाही की है। अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस (अपराध) बी.एल.सोनी ने बताया कि क्राइम ब्रांच की स्पेशल यूनिट के प्रभारी पुलिस निरीक्षक जितेन्द्र गंगवानी को सूचना मिली कि चाचा-भतीजा का एक गिरोह सांवरिया गांव से आस पास के जिलो में प्रतिदिन अफीम डोडा-पोस्त की आपूर्ति कर रहे है। इस पर टीम गठित कर कई दिनों तक निगरानी की गई। गुरूवार रात को रावतभाटा (चित्तौडगढ) से मादक पदार्थो की एक बडी खेप आने की सूचना पर शुक्रवार तडके स्थानीय लाम्बाहरिसिंह थाने के पुलिस बल के साथ सांवरिया गांव में दबिश दी गई। तलाशी में घर से दो बडे कट्टों में 50 किलो तथा घर के पीछे सरसों के खेत में छुपाये 12 कट्टों में 222 किलोग्राम डोडा-पोस्त जब्त किया गया। सोनी ने बताया कि मामले में घासीराम सांडीवाल पुत्र रूपाराम उम्र 50 वर्ष जाति जाट, निवासी सांवरिया को गिरफ्तार किया गया है जबकि मौके से फरार इसके भतीजे जसराज उर्फ पप्पू सांडीवाल पुत्र नन्दा निवासी सांवरिया को नामजद कर लांबाहरिसिंह पुलिस थाने में प्रकरण दर्ज कर अग्रिम कार्यवाही की जा रही है। अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस (अपराध) ने बताया कि तलाशी के दौरान चाचा-भतीजे द्वारा घर में बने नोहरे (पशु चारे के बाडे) में मादक पदार्थोको छुपाने के लिए एक नया तहखाना भी बनाया गया है। अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस (अपराध) ने बतया कि टोंक जिले में ही पूर्व में क्राइंम ब्रांच की टीम ने चार माह पूर्व टोंक शहर में ड्रग माफिया दउदयाल शर्मा सहित तीन तस्करों को गिरफ्तार कर अवैध मादक पदार्थ गांजा की बडी खेप जब्त की थी। उन्होने बताया कि नशा मुक्त राजस्थान की महिम में क्राइम ब्रांच की स्पेशल टीम ने 6 महा से भी कम समय मेें साढे सात हजार किलोग्राम से भी अधिक मादक पदार्थो को जब्त कर बडी सफलता हासिल की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।