उद्यमियो को मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना का लाभ दिलाए – गौतम दो दिवसीय समारोह की तैयारी बैठक
February 11th, 2020 | Post by :- | 145 Views

बीकानेर  (रामलाल लावा ) जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा कि जिले में नवीन उद्यमों की स्थापना और स्थापित उद्योगों के विस्तार को प्रोत्साहित करने के लिए मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत व्यक्तिगत ऋण के साथ-साथ संस्थाओं, एनजीओ और सोसायटिओं को अधिकतम 10 करोड़ रूपये तक का ऋण राष्ट्रीयकृत, वाणिज्यिक बैंक एवं भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा प्राधिकृत निजी क्षेत्र के अनुसूचित स्माल फाइनेंस बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक और राजस्थान वित्त निगम व सिडबी से दिया जायेगा। उद्योग विभाग इस योजना के माध्यम से अधिकाधिक लोगों को रोजगार स्थापित करने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से उद्योगपतियों से बातचीत करते हुए उन्हें योजना की  विस्तार से जानकारी दे। इसके लिए 28 और 29 फरवरी को जयनारायण व्यास काॅलोनी स्थित ग्रामीण हाट में एक वृहत स्तर पर मेले का आयोजन भी किया जाए, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों को आमंत्रित किया जाए ताकि सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना का लाभ लोगों को मिल सके और बीकानेर में लोगांे को अधिकाधिक रोजगार मिल सके।

गौतम मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला उद्योग केंद्र बीकानेर द्वारा मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना के तहत होने वाले दो दिवसीय कार्यक्रमों की तैयारी बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि उद्योग विभाग व्यवसायियों से मिलकर इस दो दिवसीय कार्यक्रम में उन्हें आमंत्रित करें और बताएं कि इस योजना के तहत ऋण प्राप्त करने पर 8 प्रतिशत राशि अनुदान के रूप में दी जाती है। योजना के तहत ऋण स्वीकृति जहां आसानी से होती है, वहीं नई योजना में अधिक से अधिक लोगों को जोड़ा जावे । इस योजना के तहत राज्य के बेरोजगार युवा, महिलाओं एवं अनुसूचित जाति, जनजाति वर्ग के व्यक्तियों को भी लाभान्वित किया जाता है। उन्होंने कहा कि दो दिवस के समारोह में जो व्यक्ति ऋण प्राप्त करने के लिए आते हैं, उनके आवेदन मौके पर ही भरवाए जाएं। अगर प्रोसेस में किसी तरह की समस्या आती है तो उसका समाधान कैसे होता है, यह बताने के लिए भी उद्योग विभाग पृथक से व्यवस्था रखें ताकि उद्योग लगाने वाला व्यक्ति अपना कार्य शीघ्रता से करा कर ऋण प्राप्त कर उद्योग की स्थापना कर सकें।
दोनों विश्वविद्यालयों का लिया जाए सहयोग -जिला कलक्टर गौतम ने कहा कि बीकानेर में अभियांत्रिकी व कृषि विश्वविद्यालय दोनों ही कार्यरत है। ऐसे में यहां के उद्यमियों को इन विश्वविद्यालयों का भी फायदा मिले इसके लिए भी सार्थक प्रयास किए जाएं। कृषि विश्वविद्यालय द्वारा एग्रो बिजनेस में किए गए विभिन्न शोध कार्यों तथा इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय द्वारा किए गए विभिन्न शोध कार्यों का फायदा भी यहां के उद्योगपतियों को मिले इसके लिए उद्योग विभाग दोनों विश्वविद्यालयों के कुलसचिव से बातचीत कर इस दो दिवसीय समारोह में आमंत्रित करें ताकि उद्योगपतियों को इन दोनों विश्वविद्यालयों का भी सीधे तौर पर लाभ मिल सके।
ई-पोर्टल के बारे में भी जानकारी दी जाए-जिला कलक्टर ने कहा कि इस दो दिवसीय आयोजन के दौरान स्थानीय उद्योगपतियों को ई-पोर्टल के बारे में भी जानकारी दी जाए। जिससे वह अपने उत्पाद और सामान का बिक्री पोर्टल के माध्यम से भी कर सकें। उन्होंने बताया कि इस पोर्टल को भारत सरकार के आपूर्ति एवं निपटान महानिदेशालय द्वारा सरकारी विभागों, संगठनों, संस्थाओं, सार्वजनिक उपक्रमों को माल एवं सेवाएं प्रतियोगी दरों पर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से एक ई-मार्केट विकसित किया गया है, जिसे गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस (ळमड) नाम से जाना जाता है। यह एक ऑनलाइन पोर्टल है जिसके माध्यम से इस पोर्टल पर उपलब्ध उत्पादों या सेवाओं का ऑनलाइन उपापन किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि राजस्थान सरकार द्वारा भी 1 मई 2017 से राज्य की समस्त उपआपन संस्थाओं के लिए जेम पोर्टल से खरीद की अनुमति प्रदान कर दी गई है।
ऋण के लिए यह प्रमाण पत्र लगाने होंगे -राजस्थान प्रदेश में स्थायी निवासी होना आवश्यक है, मान्य आधार कार्ड, गैर-सरकारी संगठन,पंजीकरण प्रमाणपत्र (आधिकारिक पंजीयन संख्या), अग्रगामी परियोजना विवरणी, स्थायी लेखा संख्या कार्ड, लिंक्ड अधिकोष लेखा संख्या, पारपत्र, लघु उद्योग हेतु भूमि के बारे में जानकारी देना जरूरी है।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के विभागों यथा पशुपालन, कृषि विभाग, कृषि विपणन बोर्ड, महिला विकास, सहकारिता विभाग की योजनाओं का भी समारोह में प्रदर्शन किया जाए। राजकीय विभागों द्वारा जो योजनाएं संचालित की जा रही है उनके सूक्ष्म एवं लघु उद्योग की संभावना है उनसे प्रस्तुतीकरण करवाया जाए एवं कुछ समय प्रश्नोत्तर रखा जाए । उन्होंने कहा कि जिले में लीड बैंक एवं अन्य बैंकों द्वारा योजना का प्रदर्शन एवं प्रस्तुतीकरण सुनिश्चित किया जाए।
बैठक में जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष डीपी पच्चीसिया ने कहा कि बीकानेर में सोलर उद्योग की  काफी संभावनाएं हैं।  ऐसे में सोलर प्लांट लगाने के लिए भी उद्योगपतियों को समझाइश की जा सकती है। वूलन इंडस्ट्रीज के कमल कल्ला ने कहा कि बीकानेर में इंडस्ट्रीज के विकास के लिए देश की अन्य वूलन इंडस्ट्रीज से जुड़े अधिक से अधिक उद्योगपतियों को भी बुलाया जाए ताकि यहां के वूलन उद्योगपति कुछ और बेहतर सीख सकें । ऑल राजस्थान जिप्सम एसएससी के प्रदेश अध्यक्ष गोपी किशन गहलोत ने भी विचार रखें । बैठक में महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र श्रीमती मंजू नैण गोदारा ने ने  योजना के बारे में विस्तार से बताया।  बैठक में विभिन्न उद्योग संघों के पदाधिकारी सहित बैंक व राजस्थान वित्त निगम, सिडबी के अधिकारी उपस्थित थे।
—–

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।