सेब मंडी से प्रति वर्ष होगी कितनी आय, सरकार नही दे रही जवाब : विजय बंसल ।
February 11th, 2020 | Post by :- | 133 Views
पिंजोर ( चन्द्रकान्त शर्मा ) ।
एचएमटी में प्रस्तावित सेब मंडी हमेशा से विवादों के घेरे में रही है क्योंकि सरकार ने बिना किसी योजना के एक औद्योगिक जमीन पर एक ऐसा प्रोजेक्ट लगाने की योजना बनाई जोकि पहले से ही फ्लॉप साबित हो चुका है, अब एक बार फिर यह प्रोजेक्ट विवादों में आगया है क्योंकि शिवालिक विकास मंच के अध्यक्ष व हरियाणा सरकार में चेयरमेन रह चुके विजय बंसल ने एक आरटीआई के माध्यम से कृषि विपणन बोर्ड से सेब मंडी के संदर्भ में काफी प्रश्न पूछे थे जिसमें एक था कि एचएमटी सेब मंडी निर्माण के बाद सरकार को प्रति वर्ष कुल कितनी आय का अनुमान है जिसके जवाब में मार्किट कमेटी पंचकूला के सचिव व कार्यकारी अधिकारी खुद ही गोलमाल करते हुए उलझ गए है। प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रशासन द्वारा दिए गए जवाब के पत्र में पहले तो साफ इनकार करते हुए कहा गया कि सेब मंडी से होने वाली आय का अनुमान आरटीआई के दायरे में नही है जबकि इसके साथ ही जवाब दिया कि यदि आपको जानकारी लेनी है तो आप कार्यालय में इनपर्सन आकर प्राप्त कर सकते है।यह कैसा झोल है जिसमे खुद पहले नियमो के विरुद्ध जाकर जानकारी देने से मना कर रहे है फिर साथ ही सूचना देने के लिए इनपर्सन बुला रहे है। हालांकि बंसल ने इस संदर्भ में आगामी पत्राचार शुरू कर दिया है। विजय बंसल का कहना है कि सरकार जनता के 100 करोड़ से एक प्रोजेक्ट बना रही है जिस पर जनता को यह जानने का अधिकार है कि यदि उनके 100 करोड़ किसी प्रोजेक्ट पर लगाए जा रहे है तो सरकार उससे प्रति वर्ष कितनी आय का अनुमान लगा रही है। यदि कोई छोटी दुकान भी खोलता है तो सबसे पहले उससे होने वाली आय का अनुमान लगाता है परंतु एचएमटी सेब मंडी के निर्माण में ऐसा कुछ प्रतीत नही होता कि सरकार ने प्रति वर्ष होने वाली आय का कोई अनुमान लगाया है और न ही सरकार कोई जानकारी देना चाहती है क्योंकि सेब मंडी एक फ्लॉप प्रोजेक्ट है।
— हरियाणा में सेब पर नही मार्किट फीस, न कोई रोजगार, केवल नुकसान…
विजय बंसल ने कहा कि हरियाणा में सेब पर मार्किट फीस नही है, जिससे न तो सरकार को कोई आय होने वाली है व न ही कि युवा को रोजगार मिलने वाला है ।बल्कि इसके लगने से नजदीकी विश्वप्रसिद्ध यादविन्द्रा गार्डन्स, भीमा देवी मंदिर आदि में आने वाले पर्यटकों व स्थानीय जनों को दुर्गंध का सामना करना पड़ेगा, इसके साथ ही अन्य समस्याए भी झेलनी पड़ेगी व पर्यावरण को नुकसान होगा।
— हरियाणा में सेब की नही पैदावार, नजदीकी सेब मंडिया भी फेल…
विजय बंसल के अनुसार हरियाणा में तो सेब की पैदावार तक नही है ऐसे में स्थानीय किसानों को भी इसका कोई लाभ नही होने वाला, यह केवल मात्र बाहरी कॉरपोरेट लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए सरकार व प्रशासनिक अधिकारियों की सांठ गांठ का खेल है जिसमे जनता के पैसे को बर्बाद किया जा रहा है। इस मंडी का निर्माण नियमो को ताख पर रख कर किया जा रहा है। इसके साथ ही जब बिल्कुल नजदीक परवाणू, पंचकूला व चंडीगढ़ में सेब मंडी के प्रोजेक्ट फेल हो गए तो पिंजोर में जनता के 100 करोड़ से एक नया फ्लॉप प्रोजेक्ट लगाकर सरकार क्या करना चाहती है।
— आरटीआई में क्या क्या प्राप्त हुई जानकारी…
विजय बंसल ने आरटीआई में काफी प्रश्न पूछे जिसमे कृषि विपणन बोर्ड के कार्यकारी अभियंता ने जानकारी देते हुए बताया कि एचएमटी सेब मंडी के लिए सरकार द्वारा अब तक पहले फेस में 1027 लाख रुपए मंजूर हुए है जिसमे से आरटीआई के अनुसार अब तक 118.16 रुपए खर्च हुए व 30 जून तक पहले फेस का निर्माण होने की संभावना है और मंडी का निर्माण फेस वाइज किया जा रहा है।
Show quoted text

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।