हरियाणा के दो दर्जन भाजपा विधायकों की टिकट पर सवालिया निशान!
August 29th, 2019 | Post by :- | 375 Views

बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)

12 से 15 मौजूदा विधायकों के कट सकते हैं टिकट

चंडीगढ़। आगामी विधानसभा चुनाव में मिशन 75 का लक्ष्य लेकर चल रही भाजपा के लिए आशीर्वाद यात्रा भाजपा के दो दर्जन मौजूदा विधायकों के लिए अमंगल यात्रा साबित हो सकती है
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की आशीर्वाद यात्रा को भाजपा के टिकटार्थियों का भरपूर समर्थन हासिल हुआ है जिसके चलते पहली बार प्रदेश में भाजपा का परचम लहराता हुआ नजर आ रहा है लेकिन यही परचम भाजपा के दो दर्जन मौजूदा विधायकों के लिए बड़ी सिरदर्दी साबित हो सकता है।
सिर्फ 28 सीटों पर भाजपा आसानी से प्रत्याशियों का ऐलान कर पाएगी। बाकी 62 सीटों पर भाजपा के लिए प्रत्याशियों का चयन करना टेढ़ी खीर साबित होगा क्योंकि 62 सीटों पर भाजपा के पास 5 से लेकर 15 तक टिकट के दावेदार अपना दम ठोक रहे हैं।

28 सीटों पर भाजपा को नहीं परेशानी

भाजपा को 28 सीटों पर प्रत्याशियों के चयन में कोई मारामारी नहीं रहेगी।
अंबाला कैंट, जगाधरी, शाहबाद, लाडवा, थानेसर, इंद्री, करनाल, घरौंडा, इसराना, सोनीपत, राई, खरखोदा, जुलाना, रोहतक, ऐलनाबाद, टोहाना, नारनौंद, बादली, नांगल चौधरी, बादशाहपुर, सोहना, नूह, फिरोजपुर झिरका, पुनहाना, अटेली , महेंद्रगढ और फरीदाबाद सीटों पर भाजपा के प्रत्याशी फाइनल है। सीटों पर वर्तमान विधायक ही दोबारा चुनावी दंगल में ताल ठोकने का काम करेंगे।

62 सीटों पर मारामारी

भाजपा के दोबारा सत्ता पर काबिज होने के प्रबल आसार को देखते हुए 62 सीटों पर टिकटों की दावेदारी बेहद ज्यादा हो गई है। दूसरे दलों के हैवीवेट प्रत्याशियों के आने के बाद पुराने भाजपाइयों में टिकट कटने का डर पैदा हो गया है।
मुख्यमंत्री की आशीर्वाद यात्रा के दौरान इन 62 विधानसभा क्षेत्रों में 5 से लेकर 15 तक दावेदार अपनी टिकट पक्की कराने की हसरत में पूरा दमखम झोंक रहे हैं।
कालका, पंचकूला, नारायणगढ़, अंबाला सिटी, साढौरा, रादौर, पिहोवा,कैथल, कलायत, गुहला चीका, नीलोखेड़ी, असंध, पानीपत शहर, पानीपत ग्रामीण, समालखा, सफीदों, जींद, उचाना, नरवाना, डबवाली, कालावाली, सिरसा, फतेहाबाद, रतिया, हिसार, आदमपुर, नलवा, बरवाला, उकलाना, हांसी, गन्नौर, गोहाना, बरोदा, बहादुरगढ़, कलानौर, महम, बेरी, बवानी खेड़ा, भिवानी, तोशाम, लोहारू, बाढड़ा, दादरी, नारनौल, कोसली, रेवाड़ी, बावल, पटौदी, गुड़गांव, बड़खल, तिगांव, फरीदाबाद एनआईटी, पृथला, बल्लभगढ़, पलवल और होडल सीटों पर प्रत्याशियों का चयन भाजपा के लिए किसी भी सूरत पर आसान नहीं होगा।

दो दर्जन विधायकों के टिकट पर सवालिया निशान
भाजपा के दो दर्जन वर्तमान विधायकों को भी दोबारा टिकट हासिल करने के लिए बेहद कड़ी परीक्षा के दौर से गुजरना पड़ेगा। लतिका शर्मा, ज्ञानचंद गुप्ता, असीम गोयल, बलवंत साढौरा, घनश्यामदास अरोड़ा, श्याम सिंह राणा, भगवान दास कबीरपंथी, बक्शीश सिंह विर्क, रोहिता रेवड़ी, महिपाल ढांडा, प्रेमलता, कुलवंत बाजीगर, कमल गुप्ता, विशंभर वाल्मीकि, घनश्याम सर्राफ, सुखविंदर सिंह , ओम प्रकाश यादव, विक्रम ठेकेदार, रणधीर कपड़ीवास, बिमला देवी, उमेश अग्रवाल, डॉक्टर बनवारीलाल, सीमा त्रिखा और मूलचंद शर्मा के टिकट पर तलवार लटक रही है।

इन विधायकों में से वहीं लोग टिकट बचा पाएंगे जिनके हाईकमान में मजबूत पैरवीकार होंगे।
खरी खरी बात यह है कि भाजपा के दो दर्जन वर्तमान विधायकों के खिलाफ जनता की नाराजगी का रुझान सामने आया है। इन सीटों पर भाजपा के पास अब मजबूत विकल्प भी मौजूद हैं। इस कारण भाजपा हाईकमान कई वर्तमान विधायकों के टिकट काट सकता है।
ज्यादा नेगेटिव परफॉर्मेंस वाले 12 से 15 विधायकों के टिकट कटना तय माना जा रहा है‌ अब देखना यही है कि अपने आकाओं के बलबूते पर सवालिया निशानों के घेरे में आए कितने विधायक अपनी टिकट बचा पाते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।