अपहरण कर बंधक बनाया, आरोपियों ने फिर किया गैंगरेप 
February 4th, 2020 | Post by :- | 90 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  नूह जिले के तावडू थाना क्षेत्र अंतर्गत एक गांव की युवती का अपहरण कर बंधक बनाकर गैंगरेप करने का मामला प्रकाश में आया है। जिस पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है। पीडिता का आरोप है कि उसके साथ बंधक बनाकर जबरन दुष्कर्म किया गया। दुष्कर्म का आरोप उसी गांव के लोगों पर लग रहा है।
 पीडिता ने बताया कि वह गांव से बाहर मिट्टी लेने गई थी। आरोप है कि इसी दौरान कुछ लोग उसे जबरन अपहरण करके सोहना की पहाडियों में ले गए, जहां पर उसके साथ दुष्कर्म किया गया । जब पीडिता वापस घर नहीं लौटी तो परिजनों ने गुमशुदगी की शिकायत गत 3 सितंबर को दी जिस पर गत 18 सितंबर 2019 को कार्रवाई हुई। लेकिन जब पीडिता आरोपियों के चंगुल से गत 15 जनवरी 2020 को किसी तरह मुक्त हुई , तो उसने परिजनों को आप बीती सुनाई। जिस पर पुलिस ने बाद मेें अपहरण व दुष्कर्म का केस दर्ज किया । पीडिता के मुताबिक इसके बाद आरोपी उसे धौज गांव में ले गए और एक कमरे में बंद कर दिया, जहां पर कई दिन तक उसके साथ दरिंदगी की। दरिंदों का सफर यहीं नहीं रुका, इसके बाद पीडिता को दूसरे शहर ले गए और कई दिन तक एक फ्लैट में बंद करके बारी – बारी से दुष्कर्म किया। जब इससे भी मन नहीं भरा तो कई दिन बाद पीडिता को गाजियाबाद यूपी ले आए। वहां पर आरोपियों ने पीडिता से जबरन किसी तरह की कार्रवाई ना करने के लिए हस्ताक्षर करा लिए।
गैंगरेप करने का आरोप पांच लोगों पर लग रहा है , लेकिन इस घटना में कितने लोग शामिल थे। पुलिस जांच के बाद ही इसका पता चल पायेगा। पीड़िता के साथ कई माह तक गैंगरेप की घटना होती रही , जगह तो कई बार बदली , लेकिन आरोपी उसकी आबरू से खेलते रहे। पीडिता ने पुलिस प्रशासन से इंसाफ की मांग की है। डीएसपी तावडू धर्मबीर सिंह ने बताया कि पीडिता के ब्यानों पर गैंगरेप का मामला दर्ज कर लिया गया है, जल्द आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।  पीड़िता को शनिवार को तफ्तीश के लिए बुलाया था। पुलिस महिला का मेडिकल तथा कोर्ट में ब्यान दर्ज करा चुकी है। डीएसपी धर्मबीर सिंह इस केस की सच्चाई का पता लगाने तथा आरोपियों को गिरफ्तार करने की दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।