बन बिभाग की मंजूरी लिए बिना ही बन काटूयो द्वारा इंदौरा के मंड क्षेत्र के अधीन पड़ते हर गाँव में रोजाना सैकड़ो पेड़ो पर बिना परमिशन चलाया जा रहा है इलेक्ट्रिक आरा
February 2nd, 2020 | Post by :- | 125 Views

 

 

लोकहित एक्सप्रेस (व्यूरो कांगड़ा)

 

आज तक बन काटूयो पर बन बिभाग इन्दौरा नही कर पाया कोई कार्यवाही, लोगो ने बन बिभाग के कर्मचारियों की मिलीभगत का लगाया अंदेशा

इंदौरा का मण्ड क्षेत्र यहां कभी खनन माफिया तो अब वन माफिया सक्रिय हो गया है स्थानीय निवासीयो ने बताया कि मण्ड क्षेत्र के हर गाँव मे स्थानीय बन काटूयो
(अबैध ठेकेदारों)द्वारा बन बिभाग की मंजूरी लिए बिना ही रोजाना लाखो रुपए की तरह तरह के लकड़ी के पेड़ो पर इलेक्ट्रिक आरा मशीन चलाई जा रही है और खासकर इन बन काटूयो ने बिना बन बिभाग की मंजूरी लिए एकड़ो
जमीन पर लगाए सैंकड़ो आम के बगीचों को काटकर पंजाब की होशियारपुर स्थित लकड़ी की मंडी में बेचकर अपनी जेबें भर रहे है ओर बन बिभाग
इंदौरा के फील्ड स्टाफ को यह सब पता होने पर भी उन्होने आज तक इन बन काटूयो पर कोई कार्यवाही करना उचित नही समझा है ओर आम जनता जब इनकी शिकायत करती है तो बो लोगो को फोनों पर यह कहकर टाल मटोल कर देते है के लकड़ी की कटाई के लिए बिभाग ने 23 किस्मो की लकड़ी पर लगे प्रतिबंध को हटा दिया है । ओर लोग जितनी लकड़ी अपने खेतों से कटबानी चाहें बो कटवा सकते है । पर उनके द्वारा लोगो को गुमराह किया जा रहा है और अगर लकड़ी की कोई भी किस्म कटाई के लिए खोली गई है तो उसके लिए भी सब दस्तावेज जमा करबाकर बन बिभाग से मंजूरी लेनी पड़ती है चाहे थोड़े पेड़ की क्यो न काटने हो । बिभाग के बन रक्षक ओर उसके अधिकारियों ओर ठेकेदारों की मिलीभगत से ही यह अबैध रूप से लकड़ी का कटान करबाया जा रहा है और अब रोजाना शाम ढलते ही मण्ड क्षेत्र से तरह तरह की लकड़ी काटकर ट्रको , ट्रालियों ओर मोहिंद्रा पिकप गाड़ियों में भरकर पंजाब को ले जाना रोड पर इन बाहनों को देखना एक आम बात हो गई है और जो कोई लकड़ी से लदे बाहन शाम को पंजाब जाने को रह जाते है बो सुबह 4 बजे से 5 बजे जाते हुए देखे जाते है जबकी सूर्यास्त होने के बाद और सूर्यउदय होने से पहले इस तरह नाही लकड़ी काटी जा सकती है और न ही बेचने को बाहर भेजी जा सकती है ।यही नही संबधित बन वीट के बन रक्षक भी कई बार मोके पर आते है और बिना कोई बिभागीय कार्यबाही किये ही बापिस चले जाते है ।और अगर स्थानीय बिभाग की मंजूरी लेने के बारे में इनसे पूछते है तो यह बन काटू इतनी बात करते आम मिलते है के हमारी बन बिभाग के साथ बात हुई है और खासकर बन रक्षक का हबाला देकर बे प्रबाह ओर निडर होकर पूरा दिन बिना मंजूरी के लकड़ी पर इलेक्ट्रिक आरा मशीन चलाने में व्यस्त रहते है
इंदौरा के मण्ड क्षेत्र के गाँवो में जगह जगह में अवैध रूप से कटान चल रहा है जिसके कारण पर्यावरण पर काफी असर पड़ रहा है लोगो ने बताया कि पंजाब से गाड़िया आती हैं और इन कटे हुए पेडों को अपनी गाड़ियों में भर कर ले जाती हैं उन्होंने सरकार से गुजारिश की है कि मण्ड क्षेत्र की तरफ भी ध्यान दिया जाए ओर इन बन काटूयो पर अंकुश लगाया जाए ताकि पर्यावरण को बचाया जा सके।

इस संबंध में जब मंड एरिया के बन रक्षक जतिंदर कुमार से बात करनी चाही तो उन्हें बार बार फोन करने पर भी उन्होंने फोन को अटेंड न करते हुए इस संबंध में कोई अपना स्पस्टीकरण देने की जीमेबारी नही समझी ।

फोटो— मंड क्षेत्र के अबैध रूप से ठेकेदारों द्वारा काटी गई लकड़ी का ट्रक बेचने के लिए पंजाब को जाता हुआ

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।