जंडियाला गुरु में नशे की बिक्री बरकरार !,
February 2nd, 2020 | Post by :- | 152 Views

जंडियाला गुरु अब भी नशे की बिक्री बरकरार ,मोहल्ला पटेल नगर ,शेखपुरा मोहल्ला ,तरनतारन बाईपास ,और नई आबादी बने नशे का गढ़ ।
पुलिस रोकने में नाकाम ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
भले ही पुलिस प्रशासन द्वारा नशे कप रोकने जो दावे किए जा रहें है ।वहीं अगर हालात जंडियाला गुरु में देखें जाएं तो इन दावों की हवा निकल जाती है ।कुछ लोगों ने अपना नाम ना छापने पर बड़े खुलासे किए हैं ।जिससे यह साफ ज़ाहिर है कि अब भी जंडियाला गुरु मोहल्ला पटेल नगर ,शेखपुरा मोहल्ला ,तरनतारन बाईपास ,और नई आबादी में धड़ल्ले से नशे की बिक्री हो रही है ।लोगों का कहना है बावजूद इसके जंडियाला गुरु की पुलिस आँखे मूंदे बैठी है । इन इलाकों में रात दिन नशा बिक रहा है ।नशा तस्करों द्वारा पुलिस से बचने के लिए पेट बुल कुत्ते भी पाल रखें है ।इसलिए कि अगर छापेमारी हो तो कुत्ते उनका बचाव कर सकें ।इसके अतिरिक्त घरों के बाहर सी सी टी वी कैमरे भी लगे हुए है ।जिनसे इनको पुलिस की आने पर इनको घर मे दाखिल होने से पहले जानकारी मिल सके ।
लोगों ने कहा कि जैसे तरनतारन के इलाके में पुलिस द्वारा नशा तस्करों की करोड़ो की जायदाद जो नशा बेचकर बनाई गई है जब्त कर ली गई है ।उसी तर्ज पर जंडियाला गुरु में भी कार्रवाई होनी चाहिए । क्योंकि यहाँ के नशा तस्कर पुलिस की आंखों में धूल झोंकने के लिए दिखावे के लिए ,दुकानें ,रिक्शा या अन्य ऐसे काम करते है जिससे पुलिस को उन पर शक ना हो ।अगर पुलिस इनकी जायदाद का आकलन इनके दिखाए गए काम की तुलना से करे तो वहाँ पर सच्चाई खुद ब खुद सामने आ जाती है कि आखिर इतने कम समय मे कैसे बन गई इनकी इतनी प्रोपर्टी ?
लोगों का कहना है कि अगर पुलिस और एस टी एफ जंडियाला गुरु में नशे को खत्म करने के लिए इस फॉर्मूले को अपनाए तो बड़े मगरमच्छ इनके काबू में आ सकते हैं ।
अब जंडियाला गुरु है हमारे राडार पर :ए आई जी एस टी एफ ।
इस मामले में ए आई जी एस टी एफ रछपाल सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जैसे हमें सुल्तानविंड में बड़ी सफ़लता मिली है ।वैसे ही हमे जंडियाला गुरु में भी मिलनी की उम्मीद है ।हमारा मिशन नशे को खत्म करने का जारी रहेगा ।पकड़े जाने पर किसी आरोपी को बख्शा नही जाएगा ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।