डमटाल गैस एजेंसी के कर्मचारियों के यह हैं बोल ——— गैस कनेक्शन के लिए बाउचर लेकर पहले बिधायक के साथ फोटो  खिंचवाए फिर एजेंसी से सलैंडर ओर चुल्ला लेने आए 
February 2nd, 2020 | Post by :- | 229 Views
लोकहित एक्सप्रैस (व्यूरो कांगड़ा)
 हिमाचल प्रदेश में जब से जय राम सरकार बनी हुई है । उसी समय से जयराम सरकार के कई बिद्यायको के   हास्यास्पद कार्यों की लंबी सूची बन गई है। ऐसा ही एक ओर नया मामला बिधानसभा क्षेत्र इन्दौरा में देखने को मिल रहा है जोकी आम जनता में एक चर्चा का विषय बनता जा रहा है । मुख्यमंत्री ग्रहणी योजना के अंतर्गत मिलने बाले फ्री गैस कनेक्शनो के बायुचर जोकी डमटाल गैस एजेंसी द्वारा जारी किए जा रहे है । हर रोज़ इन्दौरा की विधायक लाभार्थियों को अपने घर मे बुलाकर ओर उनके हाथों में बाउचर पकड़बाकर लाभार्थियों के साथ फोटो  खिंचवातीं नजर आ रही  हैं।जबकि गैस आबंटित करना खाद्य आपूर्ति बिभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों का काम है । जानकारी के अनुसार जब कुनेक्सन पास हो जाता है तो गेस एजेंसी के कर्मचारी  पंचायत बाईज बाउचरो को बिधायक के घर खुद छोड़ आते है और फिर  हर पंचायत के भाजपा कार्यकर्ता को फोन के माध्यम से सूचित किया जाता है और बो कार्यकर्ता लाभार्थियो को गैस एजेंसी में जाने की बजाए बिधायक के घर ले जा रहे है और पहले से ही एजेंसी द्वारा भेजे गए बायुचरो को हाथों में पकड़कर लाभार्थियों के साथ बिधायक का फोटो खीचबाना रोजाना देखा जा रहा है और फोटो खीचबाने के बाद फिर लोगो को गैस सलैंडर, चुल्ला ओर अन्य सामान लेने के लिए फिर सरकारी गैस एजेंसी डमटाल में जाना पड़ रहा है ।और एजेंसी बाले भी यह कहते नजर आते है के बिधायक के माध्यम से ही यह कुलेक्शन दीए जाएगे ।
लोगो का यह सवाल है  कि क्या फ्री मिल रहे गैस कनेक्शन के वाउचरो को एजेंसी के अधकारियों द्वारा स्थानीय विधायक के हाथ से दिलवाना जरूरी है जोकी पूरे बिधानसभा क्षेत्र इंदौरा में एक चर्चा का विषय बना हुआ है।
जब इस सदर्भ में गैस एजेंसी डमटाल में तैनात सरकारी अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हमे फ़ूड इंस्पेक्टर धर्मशाला  मनोज मेहरा ने आदेश दिया है कि लाभार्थियों को वाउचर लेने के लिए  विधायक के घर भेजो।
इस मामले में जब मनोज मेहरा फ़ूड इंस्पेक्टर से बात की गई तो उन्होंने कहा कि बिधायक के माध्यम से गैस के बाउचर आबंटित करके को लेकर मैंने डमटाल गैस एजेंसी में इस प्रकार के  कोई भी आदेश नहीँ दिए है ।अगर एजेंसी द्वारा ऐसा किया जा रहा है तो  इस के बारे मैं अभी गैस एजेंसी डमटाल में फोन करके पूछता हूँ और उन्होंने एक बात कह दी कि हमें मौजूदा सरकार द्वारा इस बारे कहा था कि यह गैस कनेक्शन जनप्रीतिनिधियों द्वारा दिए जाएंगे लेकिन इसका कोई लिखित प्रमाण हमारे पास नहीं है।
इस विषय पर कांग्रेस के विधानसभा के प्रत्याशी कमल किशोर से बात की गई तो  विधायक रीता धीमांन पर गभीर आरोप लगाते हुए कहा के कुछ महीने पहले भी एग्रीकल्चर बिभाग इंदौरा से सब्सिडी के आधार पर मिलने बाले कुछ सामानों को लेने के लिए बिभाग के कर्मचारियों द्वारा जनता को एक फार्म ओर बिधायक के साइन करबाकर लाने ओर उसी को समान देने की बात सामने आई थी और कई जायज लोग सहूलत लेने से बंचित रह गए थे। और अब फ्री मिल रहे गैस कनेक्शन लेने के लिए एजेंसी बालो ने लोगो को  बिधायक के घर हाजरी लगबानी जरूरी कर दी है । उन्होंने कहा के क्या गैस एजेंसी डमटाल रीता धीमान कि निजी संपति है जो  गैस एजेंसी वाले कुलेक्शन देते समय उनसे मंजूरी ले रहे हैं।। इस प्रकार के बिधायक ओर एजेंसी के कर्मचारियो द्वारा  कीये जा रहे कार्य से इन्दौरा की भोली भाली जनता के साथ सीधा अत्याचार हो रहा है कि सलैंडर ओर चुल्ला लेने के लिए पहले  उन्हें विधायक के घर सुरजपर में जाकर हाजरी लगानी पड़ती है वाद में गैस एजेंसी में जाना पड़ता है यह तो  कानून ओर बिभाग के नियमो की सख्त उल्लंघन की जा रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।