विश्वप्रसिद्ध पिंजोर में पर्यटकों का स्वागत गड्ढो से होता है : दीपांशु बंसल
January 30th, 2020 | Post by :- | 81 Views

पिंजौर, (हरपाल सिंह) :

विश्वप्रसिद्ध पिंजोर में पर्यटकों,आमजनमानस,लोगो व वाहन चालकों का स्वागत अब गड्ढो से होता है,उक्त आरोप कांग्रेस छात्र इकाई,एनएसयूआई में राष्ट्रीय संयोजक व शिवालिक विकास मंच के उपाध्यक्ष दीपांशु बंसल ने इलाके के सडक़ो की दयनीय हालत और उनपर अनेको अनेक गड्ढो को देखकर लगाए।दीपांशु बंसल का कहना है कि सडक़ों पर इन गड्ढो से सबसे ज्यादा आमजनता परेशान है क्योंकि इनके कारण हर समय दुर्घटना का डर बना रहता है तो वही चार पहिया वाहन चालकों का बेलेंस बिगड़ता है तो इसके साथ साथ गाडिय़ों की सस्पेंशन समेत काफी नुकसान होता है क्योंकि गड्ढे गहरे है।जहां पहले पिंजोर विश्वस्तरीय यादविन्द्रा गार्डन,भीमा देवी टेम्पल आदि से प्रसिद्ध था तो अब सडक़ पर गड्ढों और जाम से मशहूर हो चुका है।पिंजोर शहर में आते ही गड्ढों से पर्यटकों व वाहन चालकों का स्वागत होता है और कालका तक गड्ढों की संख्या अपरम्पार है जोकि सरकार के दावों की पोल खोलता है।दीपांशु के अनुसार कमजोर नेतृत्व व सरकार की अनदेखी के कारण सडक़ो पर गड्ढे ही गड्ढे है जिनकी खानापूर्ति के लिए मामूली रिपेयर कर दी जाती है पर लेकिन फिर 10 से 15 दिनों में पहले की तरह बढ़े बढ़े गड्ढे हो जाते है। दीपांशु बंसल ने कहा कि सबसे बड़ा कारण है कि लाखो की आबादी वाले शहर में बरसाती पानी के ड्रेनेज के लिए सरकार व प्रशासन के पास कोई हल नही है जिसमे जनता की क्या गलती है क्योंकि जनता तो करोड़ो का राजस्व सरकार को दे रही है।बरसाती पानी के ड्रेनेज के लिए कोई स्थायी हल होना चाहिए जिससे जनता को न तो परेशानी हो व न ही सरकार के खजाने का नुकसान। दीपांशु बंसल ने बताया कि इससे पूर्व भी जब मनोहर लाल मुख्यमंत्री हरियाणा ने अपनी जन आशीर्वाद यात्रा की थी तो उनके रथ को भी इलाके के गड्ढों में झूलना पड़ा था जिसमे मुख्यमंत्री में स्वयं गड्ढों को झूलकर जनता की परेशानी को देखा था जबकि पुन: भाजपा सरकार बनने के बाद कोई हल नही हुआ। दीपांशु ने कहा कि जब जनता और वाहन चालक करोड़ो का राजस्व सरकार को रोड टैक्स,टोल आदि के रूप में देते है तो उसके बावजूद भी जनता को सडक़ पर गड्ढों के माध्यम से नुकसान क्यो सहन करना पड़ रहा है और इनके कारण दुर्घटना का डर क्यो।दीपांशु बंसल ने भाजपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि सरकार केवल झूठ वायदे और घोषणाएं करने में व्यस्थ है जबकि धरातल पर कोई काम नही किया जा रहा जिससे जनता परेशान है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।