–1 जुलाई 2019 से एचएमटी पेट्रोल पम्प बन्द, सरकार को करोड़ो का नुकसान-जनता परेशान : विजय बंसल — पिंजोर, रायतन क्षेत्र व आसपास के लोगो को या तो कालका, अमरावती या लोहगढ़ से डलवाना पड़ता है पेट्रोल — सरकार द्वारा गठित किए गए बोर्ड ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर ने भी कुछ नही किया।
January 28th, 2020 | Post by :- | 105 Views

पिंजौर ( चन्द्रकान्त शर्मा )।

राज्य व केंद्र सरकार की अनदेखी, अफसरों की मिलीभगत व लापरवाही के कारण एचएमटी स्थित वर्षो से चल रहे पेट्रोल पंप की हालत दयनीय हो चुकी है, उक्त आरोप एचएमटी बचाओ संघर्ष समिति के संरक्षक व शिवालिक विकास मंच के अध्यक्ष विजय बंसल ने स्थानीय जनता को हो रही परेशानी व एचएमटी पम्प कर्मचारियों को वेतन न मिलने की बात करते हुए लगाए।
विजय बंसल का कहना है कि 1 जुलाई 2019 से एचएमटी पेट्रोल पंप बन्द पड़ा है जिस कारण स्थानीय जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि पिंजोर शहर के समीप इसके अलावा कोई पम्प नही है,या तो लोगो को कालका से तेल डलवाना पड़ता है या फिर अमरावती से या लोहगढ़ से जिससे उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।इसके साथ ही एचएमटी पम्प पर काम कर रहे कर्मचारियों को काफी समय से वेतन भी नही मिला है जिससे कर्मचारियों को काफी दिक्कत आ रही है जिससे सरकार की जनविरोधिनीतिया उजागर हो चुकी है। इसी प्रकार राज्य सरकार को भी करोड़ो का नुकसान हो रहा है क्योंकि सरकार को हर माह करीब 50 लाख का राजस्व एचएमटी पम्प से मिलता था जोकि अब नही मिल रहा है जिससे सरकारी खजाने को चुना लग रहा है।

— बोर्ड ऑफ एडमनिस्ट्रेटरस ने भी कुछ नही किया…

विजय बंसल ने बताया कि हरियाणा सरकार के कॉपरेशन विभाग ने 26 नवम्बर 2019 को 6 महीने के लिए एचएमटी कॉपरेटिव कंस्यूमर्स सोसायटी के लिए बोर्ड ऑफ एडमनिस्ट्रेटरस का गठन किया था जिसमे 4 सदस्य नियुक्त किए है थे परन्तु अभी तक इस बोर्ड द्वारा भी कोई काम नही किया गया जिससे पम्प आदि चालू हो सके और जनहित में फायदा हो सके।

पेट्रोल पंप को बेचना चाहती है सरकार…

बंसल का कहना है कि सरकार द्वारा भेदभावपूर्ण रवैए से यह प्रतीत होता है कि सरकार इस मुनाफे वाले पेट्रोल पंप को किसी निजी व चहेते व्यापारी को देना चाहती है इसलिए सरकार द्वारा इसे चलाने की सूरत में कोई काम नही किया जा रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।