क्षेत्र में लग रही सब्जी मंडियों में चरमराई व्यवस्था से लोग परेशान मंडी में नहीं लगता रेट लिस्ट का बोर्ड , वाहनों की पार्किंग व मंडी में आवारा पशुओं की परेशानी।
January 25th, 2020 | Post by :- | 67 Views

कालका (चन्दरकान्त शर्मा)

कालक मे रविवार को लगने वाली सब्जी मंडी में चरमराई व्यवस्था से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । मंडी में कहीं पर भी सब्जी व फलों के रेट को बोर्ड नहीं लगा होता जिससे कई दुकानदार अपनी मनमर्जी के ही रेट पर सामान बेच रहे है । रेट बोर्ड न लगा होने के कारण लोगों को सब्जी व फलों का असल में क्या रेट है वो पता ही नहीं लग पाता जिसकी जानकारी लेने के लिए लोगों को पूरी मंडी में जाकर दुकानदारों से रेट पता करना पड़ता है । कई लोग पूरी मंडी नहीं धूम पाते तो उन्हें दुकानदारों की मनमर्जी वाले रेट पर ही सामान लेना पड़ता है रविवार को लगी मंडी में प्याज का रेट 50 रुपए से लेकर 60 रुपए प्रति किलो के हिसाब से मिल रहा था असल में क्या रेट है इसके बारे में लोगों को जानकारी ही नहीं थी । मार्किट कमेटी वाले दकानदारों से पर्ची काटकर पैसे तो इकट्ठे कर रहे है परंतु सुविधा के नाम पर कुछ नहीं दिया जाता । क्षेत्र में जहां पर भी सब्जी मंडी लग रही है वहां पर लोगों के वाहनों के लिए कोई भी सही जगह नहीं है जिस कारण जहां पर भी जगह खाली मिली वहीं वाहन खड़ा कर दिया इससे उस जगह पर वाहनों की आवाजाई तो प्रभावित होती ही है इसके अलावा सामान खरीदने आए लोगों के वाहन भी फंस जाते है ।

लाइटें कर रही लोगों को गुमराहः

सब्जी मंडियों में दुकानदारों द्वारा लोगों को सब्जियों व फलों के रंगों पर आकर्षित करने के लिए अलग अलग रंग की लाइटें लगाई जाती है । टमाटर व गाजर के ऊपर लाल रंग की लाइटें जिससे इनके रंग लाल दिखाई देता है । रविवार की मंडी से कालक मंडी से टमाटर व और गाजर लेकर आए घर आकर देखा तो टमाटर बिलकुल हरे थे और गाजर का रंग जो खरीदते समय था वो नहीं था ।

कालक की मंडियों में वाहनों की पार्किंग की प्रबंध नहीं

स्थानीय लोगो की शिकायत है कि कालक व पिंजौर की मंडियों में वाहनों की पार्किंग की प्रबंध नहीं है और केवल एचएमटी में सब्जी मंडी में ही वाहनों की पार्किंग का प्रबंध है । कमेटी द्वारा दुकानदारों से काटी जा रही पची के माध्यम से सरकार के पास रैवन्यु जाता है तो सरकार मंडियों में लोगों और दुकानदारो को सुविधाएं भी उपलब्ध करवाए । 28 वर्षों से लग रही क्षेत्र में सब्जी मंडियांः हरियाणा सरकार में मार्किट बोर्ड के पूर्व चेयरमैन एडवोकेट विजय बंसल चंडीगढ़ की तर्ज पर 1992 में क्षेत्र में किसानों व लोगो को लाभ पहुंचाने के लिए सब्जी मंडी लगवानी शुरू की थी । बंसल ने बताया कि उस समय जमीदार से 5 रुपए और रेहड़ी वालों से मार्किट कमेटी 10 की पर्ची काटते थे और मंडी में सेक्टर 26 सब्जी मंडी वाले रेटो का बोर्ड लगाया जाता था । मार्किट कमेटी द्वारा दुकानदारों से काटी जा रही पर्ची के माध्यम से सरकार के पास रैवन्यु जाता है तो सरकार मंडियों में लोगों और दुकानदारो को सुविधाएं भी उपलब्ध करवाए । मंडियों की चरमराई व्यवस्था के बारे में जव मार्किट कमेटी के सचिव धरमेंद्र पाल से बात करने के लिए फोन किया गया तो उन्होने फोन ही नहीं उठाया ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।