जिला को जल्द मिलेगी मालखाना की सौगात
January 24th, 2020 | Post by :- | 83 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  जिले को जल्द ही मालखाना की सौगात मिलने जा रही है। इसके लिए हरियाण पुलिस हाउसिंग कॉरपोशन द्वारा क्षेत्र के गांव मालब की ग्राम पंचायत की जमीन पर जिलास्तरीय मालखाना का निर्माण कार्य तेज गति से चल रहा है। मालखाना को दो एकड़ जमीन पर बनाया जा रहा है। जिसके निर्माण कार्य में डेढ़ करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। बीते करीब तीन – चार माह से मालखाना का निर्माण कार्य चल रहा है। इसके निर्माण कार्य में करीब एक वर्ष का समय लगेगा। बता दें, कि पुलिस विभाग द्वारा जब्त वाहन, चोरी का सामान, शराब, अवैध रूप से बेचे जाने वाले पटाखे आदि सामग्री को सुरक्षित रखना काफी मुश्किल होता है। थाने चौकियों के बाहर क्षतिग्रस्त वाहनों का जमावड़ा लगा रहता है।
ये वाहन दुर्घटनाओं का कारण भी बनते हैं। वाहनों को सुरक्षित रखने की व्यवस्था पुलिस थानों व चौकियों में नहीं होती। स्थायी तौर पर इन्हें रखने की बड़ी समस्या सामने आती है।

मेवात जिले की ताजा खबर  वीडियो में भी देखें  नीचे दिए गए लिंक पर किलिक  कर देखें  ,चेंनल को सब्सक्राइब जरूर करें।
विभागीय अधिकारियों के अनुसार नूह जिले में हर वर्ष करीब एक हजार से अधिक आर्थिक अपराध घटित होते हैं। न्यायालय में पहुंचने पर कुछ ही मामलों में फरियादी अपने सामान को वापस ले जाने में सफल होते हैं, जबकि अधिकांश बाकी मामलों में सामान मालखाना में ही पड़ा रहता है। इसी तरह आम जनता से संबंधित कई महत्वपूर्ण दस्तावेज को भी मालखाना में रखा जाता है।
चौकियों के बाहर लगे कबाड़ में आग, चोरी की घटनाएं भी कई बार सामने आ जाती हैं। थाने और चौकियों में आगजनी की घटना से निपटने की सही व्यवस्था भी नहीं है। जिससे महत्वपूर्ण दस्तावेजों व कीमती सामानों के नष्ट होने का भय बना रहता है। मालब गांव गुरुग्राम – अलवर मार्ग के पास है।
खाली होंगे थाने और चौकियां :
मालखाना बनने के बाद कबाड़घर बने चौकी और थाने खाली हो जाएंगे। जिले में सभी थानों और चौकियों में जब्त की गई सामग्री और वाहनों से लेकर दस्तावेजों को एकीकृत मालखाना में रखा जाएगा। वहीं थानों और चौकियों का सौन्दर्यकरण भी हो पाएगा। कबाड़ की वजह से अभी तक थानों का बुरा हाल रहता था। इस बारे में साइज इंजीनियर मुरसलीन ने बताया कि मालखाना का निर्माण कार्य में करीब एक वर्ष का समय लगेगा। करीब डेढ़ करोड़ रुपये की लागत से यह कार्य कराया जा रहा है। इसके लिए मालब पंचायत ने अपनी जमीन को दिया है। डीएसपी अनिल कुमार मुख्यालय नूह ने भी कहा कि मालखाना बनने से सामान के रखरखाव में आसानी होगी। पुलिस महकमे को मालखाना की कमी खल रही थी। नूह जिला 2005 में बना था , उस समय जिले का नाम मेवात था , जिसे भाजपा सरकार ने बदलकर नूह रख दिया है।

मेवात जिले की ताजा खबर  वीडियो में भी देखें  नीचे दिए गए लिंक पर किलिक  कर देखें  ,चेंनल को सब्सक्राइब जरूर करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।