हसला प्रतिनिधिमंडल ने अपनी मांगों को लेकर निदेशक से की मुलाकात
January 23rd, 2020 | Post by :- | 596 Views

कुरुक्षेत्र, लोकहित एक्सप्रेस, ( सैनी)। हसला राज्य प्रधान दयानन्द दलाल जी के नेतृत्व में हसला प्रतिनिधिमंडल ने प्राध्यापकों के समक्ष लगातार आ रही समस्याओं के समाधान को लेकर आज अतिरिक्त निदेशक सेकेंडरी एजुकेशन श्री अनिल नागर जी व अतिरिक्त निदेशक सतेंद्र सिवाच जी के साथ मीटिंग की और समस्याओं के तुरन्त समाधान की मांग की।

निदेशालय स्तर पर होने वाले प्राध्यापको के कार्य जैसे ACP/ Pay Protection/Medical Reimbursement Bill/ CCL आदि लम्बे समय तक निदेशालय स्तर पर लम्बित रहते है अतः संगठन मांग करता है कि ऐसे कार्याे का HRMS के माध्यम से करवाया जाए जिसमें कर्मचारी को अपने केस ऑनलाइन ट्रैक करने का आॅपशन भी उपलब्ध कराते हुए इन कार्याें की समय सीमा निर्धारित की जाए।

राज्य के लगभग 800 वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में प्राचार्यों तथा सभी खण्ड शिक्षा अधिकारियों (BEO) के पद रिक्त है जिससे बच्चों की पढ़ाई पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है । अतः संगठन मांग करता है कि इन पदों को जल्द से जल्द पदोन्नति द्वारा भरवाने का कष्ट करें।*

सामान्य ट्रांसफर ड्राईव -2019 बारे:-

1. निदेशक सैकेण्डरी शिक्षा हरियाणा के यादि क्रमांक 4/33-2011SE(4) दिनाँक 14.08.2019 के अनुसार जिन विषयों के कुल स्वीकृत पद 300 से कम है उन विषयों के PGT का ट्रांसफर ड्राईव सामान्य ट्रांसफर ड्राईव 2019 के बाद अलग से चलाने का आश्वासन दिया गया था। परन्तु उस पर आज तक कोई कार्यवाही नही की गई। अतः संगठन मांग करता है कि अगले सामान्य ट्रांसफर ड्राईव से पहले इस कार्य को पूरा किया जाए।
2. सामान्य ट्रांसफर ड्राईव 2019 के दौरान व उसके बाद माननीय पंजाब व हरियाणा उच्च न्यायालय के आदेशों की पालना में जिन प्राध्यापकों को अपने मूल विद्यालय में वापिस भेज दिया गया था। उनका Period Condone व Salary सम्बन्धित समस्याओं का जल्द से जल्द समाधान करवाया जाए।
3. शिक्षा विभाग की तबादला नीति के अनुसार दिसम्बर मास में पदों का वैज्ञानिकीकरण करके तबादला प्रक्रिया शुरू की जाए। परन्तु आज तक इस पर कोई कार्य नही हुआ है। अतः संगठन मांग करता है कि सभी Kept Posts को खोल कर अगस्त 2019 में Anywhere Category वाले प्राध्यापको को भी इसमे शामिल किया जाए ताकि आने वाला ट्रांसफर ड्राईव समय पर शुरू हो सके।

प्राध्यापकों की Block Year 2016-19 में लम्बित LTC मामलों के लिए Budget का प्रावधान किया जाए।

प्राध्यापकों की वार्षिक प्रदर्शन एवं आत्म मूल्यांकन रिपोर्ट APAR के लिए रिर्पोटिंग ,समीक्षा व स्वीकारिता अधिकारी को दिशा निर्देश दिया जाए कि वह समय सीमा पर इसे पूर्ण करें। प्रायः अधिकारियों के तबादला या सेवानिवृति के कारण यह कार्य लम्बित रह जाता है। जिससे प्राध्यापकों की APAR लम्बित रह जाती है। संगठन मांग करता है कि विभाग द्वारा इस कार्य को तिथी बद्ध किया जाए।

संगठन मांग करता है कि जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में कार्यरत सहायक खेल अधिकारी (AEO Sports) का पद वरिष्ठ शारीरिक शिक्षा प्रवक्ताओं में से भरा जाऐ।

सभी प्राध्यापकों को ( Probation Period) परख अवधि पूर्ण होने पर कन्फर्म करने बारे आदेश जारी किए जाएं। विभाग द्वारा वर्ष 2005 के बाद ऐसी कोई सूची जारी नही की है। अतः संगठन मांग करता है कि जल्द से जल्द प्राध्यापकों की सूची जारी की जाए।

कक्षा 9वीं से 12वीं तक हिन्दी विषय के सप्ताह में 8 Periods का प्रावधान किया जाए।

विद्यालयों में मूलभूत सुविधाएं जैसे सफाई, बिजली, पानी डयूल डैस्क, अध्यापन्न सहायक सामग्री आदि की समुचित व्यवस्था की जाए।

विद्यालय में उपलब्ध संसाधनों जैसे कम्पयूटर, एजुसेट, जनरेटर आदि के प्रयोग की समुचित व्यवस्था की जाए।

सभी प्राध्यापको की GIS Number अलाट किया जाए।

संगठन के बार-2 अनुरोध करने पर भी निदेशालय स्तर पर लम्बित प्राध्यापकों की निजि मिसल /वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालयों को नही भेजी गई जिससे प्रवक्ता वर्ग का HRMS पूरा नही हो रहा है तथा HRMS के माध्यम से होने वाले कार्य प्रभावित हो रहे है।

शिक्षा विभाग द्वारा महिला प्राध्यापिकाओं को दी जाने वाली CCL में अवकाश समाप्ति के बाद शिक्षा निदेशालय में हाजिरी देने व पद को रिक्त मानने की शर्त बिल्कुल अव्यवहारिक है। संगठन मांग करता है कि इन शर्तों को हटाया जाए।

प्रतिनिधिमंडल में आज राज्य महासचिव कृष्ण, राज्य वित्त सचिव पवन मोर, रोहतक जिला बलजीत सहारण, सोनीपत जिला प्रधान नरेंद्र सरोहा, झज्जर जिला प्रधान सतपाल सिंधु मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।