s.m.c. शिक्षकों को प्रदेश सरकार सरकारी स्कूलों से बाहर निकाले : हिमाचल प्रदेश बेरोजगार संघ !
January 23rd, 2020 | Post by :- | 527 Views

लोकहित एक्स्प्रेस ( कांगड़ा ):-हिमाचल प्रदेश बेरोजगार संघ की आपातकाल बैठक कांगड़ा मटौर में उपाध्यक्ष विजय सिंह की अध्यक्षता में हुई जिसमें विभिन्न जिलों से आए हुए प्रतिनिधियों भाग लिया इस अवसर पर संघ के सभी सदस्यों ने प्रदेश सरकार द्वारा स्कूल प्रबंधन समिति एसएमसी के तहत कार्यरत उन्नीस सौ शिक्षकों को सरकार द्वारा राहत देने के फैसले की कड़ी निंदा की गई प्रदेशाउपाध्यक्ष विजय सिंह ने कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार ने चोर दरवाजे से इन शिक्षकों की भर्ती की थी क्योंकि इन भर्तियों में ना तो कोई लिखित परीक्षा ली गई और ना ही आरएमपी रूल भर्ती प्रक्रिया अपनाई गई एक प्रदेश कैडर की पोस्ट को ग्राम पंचायत प्रधान के माध्यम से भरा गया जिसमें लोकल उम्मीदवार को 10 नंबर दिए गए जो संविधान का उल्लंघन है प्रदेश सरकार यह बताएं कि वह 15 लाख बेरोजगारों के साथ चलना चाहती है या 2700 एसएमसी शिक्षकों के साथ ? माननीय हाईकोर्ट तथा सुप्रीम कोर्ट ने इन भर्तियों को अवैध घोषित किया है तथा प्रदेश सरकार को आने वाले शैक्षणिक सत्र में इनकी सेवाएं समाप्त करने का आदेश दिया है परंतु बड़े दुर्भाग्य की बात है कि प्रदेश सरकार ने इनको बाहर का रास्ता नहीं दिखाया लगता है कि जयराम सरकार पूर्व कांग्रेस सरकार की भ्रष्टाचार को पाल पोस रही है संघ के सभी सदस्यों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि इन शिक्षकों को सेवा विस्तार दिया गया तो प्रदेश भर में उग्र आंदोलन होंगे अतः सरकार से अनुरोध है कि माननीय सुप्रीम कोर्ट तथा हाई कोर्ट के आदेशों का पालन करते हुए प्रदेश के सरकारी स्कूलों से इन शिक्षकों को बाहर निकाले तथा बैकलॉग तथा कमीशन के माध्यम से भर्तियां करें
कार्यकारिणी के अन्य सदस्य
प्रदेशा उपाध्यक्ष विजय सिंह
प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप मनकोटिया
प्रेस प्रवक्ता मनीष कुमार
कोषाध्यक्ष स्वरूप कुमार अन्य सदस्य अरुण कुमार , यशशिंदर ठाकुर वीरेंद्र , सनी देओल , विनीता कुमारी , मंजू कुमारी विनय पठानिया रोजी वाला

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।