CAA के समर्थन में करमन बार्डर से शुरु हुई तिरंगा यात्रा,
January 22nd, 2020 | Post by :- | 129 Views
होडल, (मधुसूदन): केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए नागरिक संसोधन एक्ट ( CAA) के समर्थन में सोमवार को करमन बार्डर से तिरंगा यात्रा निकाली गई, जिसका नेतृत्व मां भारती सेवा समिति के अलावा क्षेत्र की दर्जनों समाज सेवी संगठनों के पदाधिकारियों ने किया। निकाली गई तिरंगा यात्रा में उद्देशय राष्ट्रहित में बनाए गए कानून से लोगों को जागरुक करना है। निकाली गई तिरंगा यात्रा का शुभारंभ करमन बार्डर से किया गया। यात्रा में शामिल राजेद्र पहलवान,डा. महेंद्र सिंह, कथा व्यास घनश्याम वशिष्ट,विधायक जगदीश नायर के भाई राजबीर नायर,प्रदीप नायर,गोपाल प्रसाद गर्ग,आशिष अग्रवाल, जगमोहन गोयल, राधेश्याम कालडा, राजकुमार तायल, रामकिश गोयल, जितेंंद्र गर्ग,डा. नवीन रोहिल्ला,लीलाधर शर्मा,ओमप्रकाश गर्ग,प्रकाश गोयल,चरण सिंह तेवतिया सहित सैंकडों लोगों द्वारा बार्डर के निकट स्थापित शहीद समुंद्र  सिंह हुड्डा की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हं श्रद्धांजली दी गई। सरकार के समर्थन में निकाली गई तिरंगा यात्रा का कई जगहों पर लोगों द्वारा फूल मालाओं से स्वागत किया गया। इसके बाद यात्रा अनाज मंडी में पहुंची जहां यात्रा में शामिल सैकडों लोगों के भारत माता की जय,वंदे मातरम के उदघोष से वातावरण गूंज उठा। यहां सभी वक्ताओं ने कहा कि पड़ोसी देशों के प्रताडि़त और अल्पसंख्यक का दंश झेल रहे हिन्दू, पारसी, बौद्ध, क्रिशचन ओर जैन समाज को केंद्र सरकार द्वारा भारत में नागरिकता देने सम्बंधित कानून में संशोधन करके संसद और राज्यसभा में पास करा कर उन्हें भारत का स्थाई निवासी बनाया है। सरकार के इस कानून से पूरे विश्व में हमारे देश का मान सम्मान बढा है। हम सभी इसके समर्थन में सरकार के साथ खड़े हंै, लेकिन गंदी और तुष्टिकरण की राजनीति के चलते कुछ देश विरोधी ताकतें हमारे देश की सरकारी संम्पत्ति को नुकसान पहुंचा कर देश के शांतिपूर्ण माहौल को खराब किया जा रहा है। जगह -2 उपद्रवियों द्वारा बसों को जलाया जा रहा है, ट्रेनों पर पत्थर फेंके जा रहे हैं, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जा रहा है, जिससे आमजन को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। यात्रा में शामिल सैकडों लोगों ने सरकार द्वारा बनाए गए कानून के समर्थन में जमकर नारेबाजी की। तिरंगा यात्रा अनाज मंडी से पलवल की तरफ रवाना हो गई।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।