सरपंच ने मनरेगा स्कीम के नाम पर किया गबन
January 21st, 2020 | Post by :- | 176 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  नूह जिले के नगीना खंड की ग्राम पंचायत जलालपुर की सरपंच सकुनत द्वारा मनरेगा के तहत लाखों रुपए के गबन के मामले की शिकायत सीएम विंडो में लगाई है । शिकायत होने से सरपंच की मुसीबत बढ़ने से इंकार नहीं किया जा सकता। गांव के लोगों ने बताया कि जलालपुर, महू ,खानपुर नूंह 3 गांव की एक पंचायत है , जिसकी सरपंच महिला है ।जबकि सरपंची का काम उनके पति जान मोहम्मद देखते हैं। उन्होंने कहा कि महिला सरपंच द्वारा गांव के वार्डों  के विकास के लिए सड़कों का निर्माण कराया गया। निर्माण कार्य अभी तक हुआ नहीं है , लेकिन निर्माण कार्य की राशि निकाल ली गई । इसके अलावा गांव में पशुओं को पानी पीने के लिए तालाब का निर्माण कराया गया। जिसको मनरेगा के तहत कराया गया , लेकिन जिन लोगों का मनरेगा मजदूरी में नाम दिखाया गया है , उनमें से एक व्यक्ति ग्राम पंचायत का नहीं है। इसके अलावा आधा दर्जन व्यक्तियों के नाम पर मनरेगा में काम दिखा कर रुपयों का गबन किया गया है। जिसकी शिकायत ग्रामीणों द्वारा सीएम विंडो में भी की गई। जिसके बाद सरपंच पति जान मोहम्मद ने शिकायतकर्ता को धमकी तक दे डाली।

मेवात जिले की ताजा खबर  वीडियो में भी देखें  नीचे दिए गए लिंक पर किलिक  कर देखें  ,चेंनल को सब्सक्राइब जरूर करें।
आपको बता दें कि ग्राम पंचायत जलालपुर नूह 3 गांव की एक पंचायत है। जिसमें विकास के लिए सरपंच द्वारा सड़क निर्माण में 14 लाख 96627 रुपये की  राशि लगाई गई तथा पशुओं को पानी पीने के लिए तालाब का निर्माण कराया गया , जिसमें 21 लाख 78300 खर्च किए गए।  ग्राम पंचायत में रास्तों का निर्माण कराया गया है। वह आधे अधूरे रास्ते बनाए गए हैं । जिनकी हालत बद से बदतर है। कुछ रास्तों का तो निर्माण ही नहीं कराया गया। इसके अलावा गांव के पशुओं को पीने के पानी के लिए एक तालाब का निर्माण कराया गया। जिसको मनरेगा स्कीम के तहत बनवाया गया। लेकिन गांव के लोगों ने मनरेगा में काम नहीं किया। उन लोगों के नाम से सरपंच द्वारा पैसे निकाले गए । जिसकी शिकायत गांव के ही परवेज आलम खान ने नूह सीएम विंडो में  की तो  उन्हें  व उनके भाई के हाथ पैर तोड़ने की  सरपंच पति द्वारा धमकी दी गई। जिसकी शिकायत शिकायतकर्ता ने पुलिस कप्तान नूह को दी गई। अब देखना यह है कि सरपंच द्वारा किए गए गबन को जिला प्रशासन कितने गंभीर तरीके से लेता है। यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।