हैड कानि. ने पुलिस ड्यूटी पर रहते प्राप्त की डॉक्टर की उपाधि
August 28th, 2019 | Post by :- | 73 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । जैसलमेर के हैड कांस्टेबल डॉ. जालम सिंह को पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के स्थापना दिवस समारोह पर बुधवार को माननीय गृह मंत्री भारत सरकार श्री अमित शाह द्वारा पंडित गोविंद वल्लभ पंत पुरस्कार से सम्मानित किया गया जिसमें 40 हजार रुपये नकद एवं  प्रशंसा पत्र प्रदान किया गया। जिला पुलिस अधीक्षक जैसलमेर डॉ किरन कंग ने बताया कि जिला जैसलमेर में हैड कांस्टेबल के पद पर कार्यरत डॉ. जालम सिंह कोहरा गांव के निवासी है। जिन्हें आज बुधवार को भारत सरकार गृह मंत्रालय पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो नई दिल्ली के स्थापना दिवस समारोह में  पंडित गोविंद वल्लभ पंत पुरस्कार इनकी पुस्तक’आर्थिक अपराध तथा पुलिस’के लिए दिया गया। डॉ कंग ने बताया कि लेखक ने इस पुस्तक में बढ़ते वैश्वीकरण के दौर में आर्थिक अपराधाें का विस्तृत परिचय देते हुए इनकी निपटान की दिशा में भारत में आर्थिक अपराध से संबंधित कानून एवं अधिनियमाें के क्रियान्वयन में पुलिस की भूमिका के साथ-साथ अन्य नियामक प्राधिकरणों की भूमिका का विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया है। लेखक ने पुलिस को इन अपराधों का मुकाबला करने में सक्षम बनाने के लिए सुझाव दिए हैं। लेखक ने तुलनात्मक अध्ययन के लिए  लिए यूके, अमेरिका एवं ऑस्ट्रेलिया में व्याप्त अपराध एवं  प्रवर्तन प्राधिकरणों का परिचय दिया है। साथ ही आम जनता एवं पुलिस कार्मिकों को  आर्थिक अपराध के विशिष्ट संदर्भित मामलों के संबंध में समझ को विकसित करने हेतु केस स्टडीज के माध्यम से विवेचना की की गई है। डॉ. कंग ने बताया कि संपूर्ण देश भर में इस विषय पर पुस्तक लिखने के लिए पुलिस अनुसंधान विकास ब्यूरो ने रूपरेखाएं आमंत्रित की थी जिसमें हैड कांस्टेबल डॉक्टर जालम सिंह की रूपरेखा सर्वश्रेष्ठ पाई गई जिस पर इन्हें पुस्तक लेखन का कार्य सौंपा गया था। 
उन्होंने बताया कि हाल ही में पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के महानिदेशक श्री सुदीप लखटकिया की अध्यक्षता में इस योजना की मूल्यांकन समिति की बैठक में  इस पुस्तक पर 40 हजार रुपये पुरस्कार की घोषणा की गई।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।