मंड क्षेत्र के गाँवो में बन बिभाग की मंजूरी लिए बिना ही बन काटूयो द्वारा काटी जा रही है हर प्रकार की लकड़ी , बिभाग से मिलीभगत का लगाया अंदेशा
January 20th, 2020 | Post by :- | 129 Views

गगन ललगोत्रा ( व्यूरो कांगड़ा )    ।        इंदौरा का मण्ड क्षेत्र यहां कभी खनन माफिया तो अब वन माफिया सक्रिय हो गया है स्थानीय निवासीयो  ने  बताया कि क्षेत्र के हर गाँव मे स्थानीय बन

काटूयो  द्वारा बिभाग से बिना मंजूरी लिए ही रोज लाखो रुपए की तरह तरह की लकड़ी पर इलेक्ट्रिक आरा मशीन चलाई जा रही है और खासकर इन बन काटूयो ने बिना बन बिभाग की मंजूरी लिए एकड़ो के हिसाब से आम के बगीचों को काटकर पंजाब की होशियारपुर मंडी में बेच कर अपनी जेबें भर ली है  ओर बिभाग के फील्ड स्टाफ को यह सब पता होने पर भी  उन्होने आज तक कोई कार्यवाही करनी उचित नही समझी है और अब रोजाना कई ट्रैक्टर ट्रालीयो ओर बड़े ट्रको में देर शाम ढलते ही मण्ड क्षेत्र से तरह तरह की लकड़ी काटकर ओर भरकर ले जाना रोड पर गाड़ियों को आम देखा जा सकता है और जो कोई देर शाम जाने को रह जाती है बो सुबह 4 बजे से 5 बजे जाती हुई मिलती है । और बन संबंधिक्त बीट के बन रक्षक कई बार मोके पर आते है और बिना कोई कार्यबाही करके ही बापिस चले जाते है और यह लकड़ी काटने बाले भी इतनी बात करते आम मिलते है के हमारी बन बिभाग के साथ बात हुई है और खासकर गार्ड का हबाला देकर बे प्रबाह होकर पूरा दिन बिना मंजूरी के लकड़ी को काट रहै है  इंदौरा के मण्ड क्षेत्र में जगह जगह में अवैध रूप से कटान चल रहा है जिसके कारण पर्यावरण पर काफी असर पड़ रहा है लोगो ने बताया कि पंजाब से गाड़िया आती हैं और इन कटे हुए पेडों को अपनी गाड़ियों में भर कर ले जाती हैं उन्होंने सरकार से गुजारिश की है कि मण्ड क्षेत्र की तरफ भी ध्यान दिया जाए ताकि पर्यावरण को बचाया जा सके।इस के लिए वन अधिकारी से बात करनी चाही तो कोई संपर्क उनसे न हो पाया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।