ब्लड बैंक में रक्त की कमी को देखते हुए जिला युवा विकास संगठन की ओर से किया गया रक्तदान शिविर का आयोजन
January 19th, 2020 | Post by :- | 99 Views

अम्बाला,साहा:(जयबीर राणा)अंबाला ब्लड बैंक में रक्त की कमी को देखते हुए जिला युवा विकास संगठन द्वारा किड्जी प्ले वे स्कूल के सहयोग से आज विश्वकर्मा मंदिर साहा में रक्तदान शिविर का आयोजन कर एक बार फिर रक्तदान के क्षेत्र में संगठन की सार्थकता को सिद्ध किया है। रक्त कोष प्रबंधन द्वारा आग्रह करने पर 2 दिन के अंतराल में ही संगठन द्वारा यह शिविर लगाया गया। यह पहला अवसर नहीं है कि जब रक्त कोष में रक्त की कमी को देखते हुए संगठन ने आपातकाल में रक्तदान शिविरों का आयोजन किया हो। पिछले 7 सालों से संगठन निरंतर रक्तकोष के लिए संजीवनी बना हुआ है जब भी रक्तकोष में रक्त की कमी होती है संगठन आगे आकर शिविर लगाकर उस कमी को पूरा करने का प्रयास करता है ।
आज जिला विकास संगठन द्वारा आयोजित 75 वेद रक्तदान शिविर में मुख्य अतिथि के तौर पर निदेशक हरिजन वित्त एवं विकास निगम हरियाणा मांगेराम पंजैल उपस्थित रहे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता संगठन प्रधान तरुण कौशल ने की। शिविर का उद्घाटन किड्जी प्ले वे स्कूल के निदेशक हिमांशु छाबड़ा द्वारा रक्तदान करके किया गया। संगठन के साहा ईकाई प्रधान पंकज छाबड़ा ,संगठन सचिव संदीप सैनी सरपंच ,मलकीत सबगा, राजेश तेपला के नेतृत्व में आयोजित शिविर में ठिठुरती ठंड में 90 युवाओं ने रक्तदान कर संगठन की मुहिम का समर्थन किया। इस अवसर पर विशेष मेहमान के तौर पर सुरेंद्र राणा, जगदीप गोला ,हैप्पी ढकोला, पूरण धीमान उपस्थित रहे
इस अवसर पर संगठन प्रधान तरुण कौशल व साहा ईकाई प्रधान पंकज छाबड़ा ने बताया कि जब-जब रक्त कोष में रक्त की कमी होती है रक्त कोष प्रबंधन द्वारा सूचित करने पर संगठन तत्काल रक्तदान शिविर का आयोजन करता है जैसे ही 17 जनवरी को पता लगा कि ब्लड बैंक में रक्त की कमी है संगठन ने रक्तदान करने का का निर्णय लिया क्योंकि 19 जनवरी को संगठन का स्थापना दिवस भी है तथा मातृभूमि के लाडले विश्व में स्वाभिमान के अग्रदूत वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की पुण्यतिथि है आज का शिविर संगठन द्वारा वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप को समर्पित है क्योंकि महाराणा प्रताप एक ऐसे स्वाभिमानी योद्धा थे जिन्होंने उम्र भर मुगलों से लड़ाई जारी रखी परंतु कभी भी मेवाड़ के स्वाभिमान के साथ समझौता नहीं किया ।
इस अवसर पर मांगेराम पंजैल ने जिला विकास संगठन द्वारा किए जा रहे कार्यो की मुक्त कंठ से प्रशंसा करते हुए कहा कि जिला अंबाला में 2005 से जिला युवा विकास संगठन के गठन के बाद सामाजिक कार्यों में तेजी आई है तथा जिला युवा संगठन द्वारा रक्त की कमी से जान न जाने देंगे की मुहिम अपने आप में काबिले तारीफ है संगठन द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में 75 रक्तदान कैंप लगाकर रक्तदान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य किया गया जिसको देखते हुए महामहिम राज्यपाल हरियाणा द्वारा संगठन को रक्तदान ट्रॉफी से सम्मानित किया गया ।यह अंबाला के लिए गर्व का विषय है उन्होंने कहा कि रक्त का कोई भी विकल्प नहीं है ना ही इसे किसी कारखाने या मशीन से तैयार किया जा सकता है रक्तदान के माध्यम से ही रक्त की कमी को पूरा किया जा सकता है एक स्वस्थ व्यक्ति एक वर्ष में चार बार रक्तदान कर पुण्य का भागीदारी बनता है। संगठन महासचिव नरेश मित्तल केसरी संगठन सचिव सरपंच संदीप सैनी पसियाला ने बताया कि जिला युवा विकास संगठन द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में 68 आर्थिक दृष्टि से कमजोर विद्यार्थियों को गोद लिया हुआ है संगठन द्वारा महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में 329 उषा सिलाई स्कूलों का स्थापित कर महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाया गया है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में 51 स्वास्थ्य चेकिंग, व 29 निशुल्क आंखों के ऑपरेशन शिविरों का आयोजन किया गया तथा हरियाणा में लोहड़ी पर्व कन्याओं के नाम महोत्सव की शुरुआत कर एक नई परंपरा को जन्म दिया गया।
यह रहे स्टार रक्तदाता
इस अवसर पर धर्मवीर नारायणगढ़ माजरा ने 34 वी, मनप्रीत सिंह हल्दरी ने 25 वी, दिनेश सबगा व विक्रम वजीदपुर व शाम लाल नाहोनी ने 9वी, संदीप तेपला व प्रोफेसर राजेश तेपला ने आठवीं, शिवदयाल व अशोक सबगा ने 10वीं, बलकार कालपी व गोरी ने 12वीं, रणधीर साहनी वअमरीश पसियाला ने 12वीं, पंकज छाबड़ा व प्रतीक शर्मा ने 15वीं,जोगेश धीमान अभिनव सैनी,रजत राणा व रणधीर जाँगडा ने 10वीं ,मोपी व प्रवेश मितल ने 5वीं,सुनील छपरा व सीमित चौधरी ने सातवीं, हिमांशु छाबड़ा व बोनी और सागर सम्लेहडी, ने तीसरी बार रक्तदान कर संगठन की मुहिम में शामिल होने का संकल्प लिया। नाम सिविल हॉस्पिटल अंबाला छावनी के ब्लड बैंक इंचार्ज डॉ धर्मवीर के नेतृत्व में टीम ने रक्त एकत्रित किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।