एच डी एफ सी बैंक की बंडाला शाखा हथियारों के बल करीब 5 लाख रुपये छीने ।
January 18th, 2020 | Post by :- | 154 Views

एच डी एफ सी बैंक बंडाला शाखा से अज्ञात कार सवार लुटेरों ने हथियारों के बल पर करीब 5 लाख लूटे ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
लूटपाट व चोरी की घटनाओं में लगातार बढ़ोतरी हो रही ।आज दुपहर करीब 1 बजे गांव बंडाला जो जंडियाला तरनतारन रोड पर स्तिथ है में एच डी एफ सी बैंक की शाखा में से 4 अज्ञात लुटेरे जो हथियारों के साथ बैंक की शाखा में दाखिल हुए और वहां पर मौजूद बैंक कर्मी जो 5 थे उनसे बैंक का कैश जो एक ट्रंक में रखा हुआ था लूट लिया इसके इलावा बैंक की शाखा के मैनेजर पुनीत के जेब मे पर्सनल रखे पैसे जो करीब 4-5हज़ार रुपये थे वह भी ले गए जबकि कैशियर अनुज से हथियारों के बल पर बैंक में रखा पैसा जो 5 लाख के करीब बताया जा रहा है उससे हथियार के बल पर छीन लिया ।उन्होंने ने बताया कि इनके चेहरे ढंके हुए थे और इनके पास पिस्तौल थे ।उस समय बैंक में केवल 1 ग्राहक ही मौजूद था ।इस घटना को उन लूटेरो ने केवल 20 मिंट के भीतर ही अंजाम दिया ।इस घटना से बैंक का सारा स्टाफ सहम गया ।लुटेरे जाते समय बैंक का डी वी आर भी उतार कर ले गए ।
बता दे कि इन ब्रांच में बहुत सारी खामियां हैं क्योंकि इसके सुरक्षा गार्ड के पास कोई हथियार नही था वह केवल खाली हाथ बैंक के दरवाजे पर बैठता था ।जिस पर लुटेरों ने आसानी से हथियार तानकर शाखा में दाखिल हो गए ।दूसरी बात इस शाखा में कोई भी स्ट्रांग रूम नही बनाया गया जिसमें बैंक का पैसा सुरक्षित रह सके ।पैसे के लिए बैंक द्वारा कैश के लिए एक ट्रंक रखा हुआ था ।
सुरक्षा के मामले यह निज्जी बैंक ज्यादातर आर बी आई के दिशा निर्देशों की पालना नही करते ।उन्होंने कहा कि जो बैंक द्वारा सुरक्षा गार्ड रखा हुआ है उसके पास कोई हथियार नही था जिसे वह किसी को रोक सके । इसके इलावा उन्होंने ने कहा कि यह किसी गैंग का काम हो सकता है ।
डी एस पी जंडियाला गुरिंदेरबीर सिंह ने कहा कि इस घटना के आरोपियों की तलाश जारी है ।गांव में लगे सी सी टी वी कैमरों की फुटेज खंगाली जा रही है ।इसलिए कि आरोपियों की पहचान हो सके ।
पुलिस द्वारा इस मामले में पुलिस थाना जंडियाला में मामले दर्ज कर कारवाई शुरू कर दी है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।