रविदास बस्ती, सफीदों के 15 कब बच्चों को दिल्ली में नेशनल गोल्डन एरो अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा: डीओसी राजेश वशिष्ठ
January 17th, 2020 | Post by :- | 266 Views

जींद, लोकहित एक्सप्रेस, (सैनी) । खंड शिक्षा अधिकारी डॉ नरेश वर्मा ने राजकीय प्राथमिक स्कूल सफीदों के छोटे छोटे कब बच्चों को सम्मानित करते हुए कहा मन में कुछ करने का जनून हो तो कोई भी काम बड़ी आसानी से किया जा सकता है । इसका सबसे बड़ा उदहारण कब बुलबुल के जिला संगठन आयुक्त राजेश वशिष्ठ को जाता है जिसने जींद की कब बुलबुल गतिविधियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई । उन्होंने बताया की अपने हौंसले ओर जनून का एक बार फिर से उदहारण पेश करके राजेश वशिष्ठ ने अपनी प्रतिभा का परिचय दिया । प्राथमिक कक्षाओं के छोटे छोटे बच्चों को खेल खेल में शिक्षा देने के उद्देश्य से विभिन्न गतिविधियों का आयोजन करवाया जाता है । इन छोटे छोटे बच्चों को कब बुलबुल के नाम से जाना जाता है । लडकों को कब ओर लड़कियों को बुलबुल का नाम दिया गया है ।कब बच्चों की गतिविधियाँ मोगली की कहानी पर आधारित होती है जिसमे छोटे छोटे खेल होते है । खेलों के द्वारा बच्चों को रोचक तरीके से बिना किसी भय के खुशनुमा वातावरण में शिक्षा देना है ।बुलबुल बच्चों को तारा स्टोरी से पक्षियों के जैसे तोता ,मैना ,कोयल आदि के खेल ,कहानियां ,स्वयम करके सीखने की क्रिया पर बल दिया जाता है । कब बुलबुल बच्चे पहली से पांचवी कक्षा के होते है । इनको प्रथम चरण से चतुर्थ चरण का पाठ्यक्रम खेल खेल में करवाया जाता है । स्वामी विवेकानंद ने भी बच्चों को बिना डर के शांत माहोल में शिक्षा देने की बात कहा है । चारों चरणों का पाठ्यक्रम के उपरांत बच्चों को राज्य स्तर पर एक टेस्ट देना होता है जिसमे राष्ट्रीय स्तर के अवार्ड की चयन प्रक्रिया होती है ।प्राथमिक कक्षाओं के बच्चों को मिलने वाला यह उच्च स्तर का अवार्ड गोल्डन एरो अवार्ड होता है । जिला संगठन आयुक्त राजेश वशिष्ठ ने बताया की जिसका गोल्डन एरो अवार्ड में चयन हुआ उनको नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय मुख्यालय पर नेशनल प्रेजीडेंट अनिल जैन ,नेशनल चीफ कमिश्नर केकेखंडेलवाल राष्ट्रीय स्तर का सर्टिफिकेट देकर सम्मानित करेंगे । पिछले 12 वर्षों से लगातार राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना चुके जिला संगठन आयुक्त कब बुलबुल राजेश वशिष्ठ ने बताया कि जींद जिले के कब बुलबुल बच्चों की गतिविधियों को देखने के लिए साउदी अरब की टीम दो बार जींद का दौरा लगा चुकी । साउदी अरब के सभी सदस्यों ने भी काफी सराहना की थी । यदि आज हर व्यक्ति अपने कार्य को पूरी जिम्मेदारी से निभा सके तो बच्चों के सर्वांगीण विकास के लक्ष्य को पाना कोई बड़ी बात नहीं है । उनका हमेशा यही प्रयास रहा है की बच्चों की झिझक को ख़त्म करके उनको राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा को दिखाने का अवसर प्रदान करवाए ताकि उनको स्वयं करके सीखने में मदद मिले । कब बुलबुल बच्चों का मोटो होता है कोशिश करो । उनकी भी यही कोशिश है की सभी बच्चे अच्छे काम को करने की कोशिश करे । कब बुलबुल बच्चे दिन में एक भलाई का कार्य करते है । कब बुलबुल बच्चे दो नियमो की पालना करते है । पहला नियम कब बड़ों की आज्ञा मानता है । दूसरा कब स्वच्छ ओर विनम्र होता है । बच्चों को संस्कारी बनाने के लिए इस प्रकार की गतिविधियों का होना अति आवश्यक है । आज स्कूल ओर समाज में नैतिक मूल्यों का पतन हो रहा है लेकिन इस प्रकार की गतिविधियाँ बच्चों को अपने ओर समाज के प्रति जागरूक बनाने का कार्य करती है । एक बार फिर से शिक्षा विभाग ओर स्काउटिंग का नाम रोशन किया गया । राजेश वशिष्ठ ने जिले के सभी कब मास्टर व फ्लोक लीडर को बधाई दी जिनके प्रयासों से एक बार फिर से जिला जींद ने प्रथम स्थान हासिल किया ।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।