बाह रे मेरी हिमाचल सरकार ब परिबहन बिभाग जिसने कर दी एक ही नंबर पर दो गाडियों की सेम आरसी जारी
January 16th, 2020 | Post by :- | 266 Views

गगन ललगोत्रा (व्यूरो कबगड़ा)

 

हिमाचल प्रदेश में कुछ दिनों से एक नया ही कारनामा चर्चा में है जोकि यह है के एक ही नंबर पर दो गाड़िया क्षेत्र में घूमती नजर आ रही है दरअसल मसला यह है कि (HP40 A 6946) नम्बर की दो गाड़ियां हिमाचल की सड़कों पर चलती मिल रहीं हैं जिसमें एक मारुति ऑल्टो 800 है जोकी मालिक ओमप्रकाश पुत्र राम लाल गांव घटटू डाकघर लीली तहसील व जिला काँगड़ा के नाम पर पंजीकृत है जबकि दूसरी गाड़ी जिसका भी यही नंबर है वो गाड़ी भी तहसील फ़तेहपुर के गाँव गाँव ओर गली गली में घूमती नजर आ रही है जोकी यह नंबर गाड़ी टाटा की सफारी स्ट्रोम पर यह नम्बर लगा हुआ है।अब बात यह है कि जब यह नम्बर किसी व्यक्ति को बिभाग द्वारा पहले ही जारी कर दिया गया है तो इसी नंबर की एक दूसरी टाटा स्ट्रोम गाड़ी फतेहपुर एरिया मे कैसे घूम रही है क्या इस गाड़ी के मालिक को कानून का डर नहीँ है या अपनी राजनीतिक में ऊंची पहुंच को जेब मे रखकर वो कानून को ठेंगा दिखा रहे हैं।स्थानीय निवासियों के अनुसार यह गाड़ी प्रदेश स्तर के  चलने बाले जनप्रीतिनिधियों के काफिलों में घूमती मिलती है और कई बार फतेहपुर  के  तमाम सरकारी कार्यलयो के बाहर भी यह गाड़ी खड़ी की हुई मिलती है ओर सबाल यह खड़ा होता है के आजतक क्या कभी स्थानीय प्रशासन ने भी इस गाड़ी की तरफ ध्यान नहीँ दिया। जा बो इस गाड़ी को दरकिनार करना ही अपनी नोकरी को पक्का मनाने में जकीन रखते है

अब सवाल यह उठता है कि अगर कहीं अनजाने में कोई हादसा इस नम्बर की गाड़ी से हो जाये तो पुलिस किस पर कार्यबाही करेगी उस पर जिसके नाम पर यह गाड़ी पंजीकृत है या जो अवैध रूप से यह नम्बर लिखबाकर गाड़ी को फतेहपुर उपमंडल के गाँव गाँव मे घुमा के अपनी राजनीतिक रोटियां सेक रहे है
इस बारे जब मारुति आल्टो के मालिक से बात की गई तो उन्होंने कहा कि यह नम्बर उन्होंने 2012 में पंजीकृत करवाया था और यह नम्बर उनकी ही गाड़ी का ही है चाहे कोई भी हिमाचल परिवहन के कार्यालय में जाकर चेक करवा सकता है इसकी शिकायत मैंने मुख्यमंत्री हैल्पलाइन पर भी कर दी है

संबंध में जब मेजर विशाल शर्मा आरटीओ धर्मशाला से बात की गई तो उन्होंने कहा कि अगर ऐसी कोई बात हुई है तो दोषी पर तुरंत कार्यबाही होगी

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।