बद्दी ! बंदूक की नोक पर 10 लाख की फिरौती मांगने का आरोप
January 15th, 2020 | Post by :- | 128 Views

– पुलिस ने कहा कि न मिली बंदूक न ही साक्ष्य..

– निराधार है बंदूक तानने का मामला-डीएसपी…

हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में सबसे बड़े औद्योगिक क्षेत्र बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ में बदमाश बेखौफ हैं। कहीं पर भी जाकर लूटपाट की कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला बद्दी में सामने आया है जहाँ एक दवा उद्यमी ने अपने उपर बंदूक तानकर जबरन दस लाख रुपये फिरौती मांगने का आरोप जडा है। पुलिस को दी हुई तहरीर में बददी के मैगनाटैक एंटरप्राईजिसस फार्मा उद्यमी मुकेश निवासी पंचकूला हरियाणा ने लिखा है कि उनके कार्यालय में आज सुबह अचानक 10 से 12 युवकों ने आकर बंदूक के दम पर 10 लाख फिरौती मांगी एवं फिरौती नहीं देने पर गोली मारने को कहा। इसके बाद उद्यमी के स्टाफ ने चुपके से पुलिस को फोन किया तो डीएसपी अंकित शर्मा की अगुवाई में एक दल बददी एचपीएसआईडीसी के क्षेत्र में उक्त प्लाट में पहुंचा। पुलिस ने अंदर बैठे सभी युवकों की जमा तलाशी ली तो उनको सर्च के दौरान न तो बंदूक मिली और न ही कोई ऐसा हथियार मिला जिससे जान ली जा सकती हो। वही मुकेश सैनी ने बद्दी पुलिस थाना में सभी दोषियों के खिलाफ शिकायत दी है एवं उचित कार्रवाई की मांग की है साथ ही साथ कहा कि अपराधी तत्व हमारे साथ कुछ भी दुर्घटना कर सकते हैं हमें जल्द से जल्द सुरक्षा दी जाए और यदि भविष्य में कुछ हमारे साथ अनहोनी होती है तो इसके जिम्मेवार यह सभी गुंडा तत्वों लोग होंगे। वहीं दूसरी ओर इस वारदात की बात पूरे शहर के उद्यमियों में वायरल हो गई और हर कोई यह जानने को बेताब दिखा कि सच क्या है और झूठ क्या है। क्या यह फिरौती या रंगदारी का मामला है या कबाड की एवज में पैसे ऐंठने का संगठित गिरोह ?

– निराधार है बंदूक तानने का मामला-डीएसपी…
इस विषय में डीएसपी अंकित शर्मा ने कहा कि हमने चंद मिनटों में ही आरोपी युवकों को धर लिया था लेकिन जांच के दौरान उद्यमी के आरोप सही नहीं पाए गए। तलाशी के दौरान किसी भी प्रकार का हथियार हमें नहीं मिला। अंकित शर्मा ने कहा कि यह प्रथम दृष्टि में लेन देन का मामला लग रहा है क्योंकि आरोपियों से जुडे लोगों ने उक्त उद्योग से मशीन या अन्य काम के दस लाख रुपये लेने हैं। इस संदर्भ में दिल्ली से सटे एक कोर्ट में मुकेश सैणी उनकी कंपनी का दूसरी पार्टी के साथ केस चला हुआ है जिसकी पेशी चार फरवरी को है। उन्होने कहा कि हमने उद्यमी के सामने एहतियात के तौर पर हिरासत में लिए गए युवकों की शिनाख्त करवाई है और पूछा कि बंदूक किसने आपके उपर तानी थी तो उद्यमी सैणी ने कहा कि मुझे याद नहीं क्योंकि मैं बहुत ही डरा हुआ था। डीएसपी ने कहा कि पुलिस ने दोनो पक्षों के बयान लिए हैं और मामले की निष्पक्ष तरीके से जांच की जा रही है। जो भी दोषी पाया गया उसको बख्शा नहीं जाएगा लेकिन अगर मामला झूठा व आधारहीन तथा लेन देने से प्रेरित निकला तो शिकायत को रदद कर दिया जाएगा। फिर भी पुलिस पूरे प्रकरण की बारीकी से जांच कर रही है तथा हर पहलू को खंगाल रही है।

– फुटेज में नहीं दिखी पिस्टल….
पुलिस ने इस दौरान पूरे प्रकरण की व युवको के अंदर व बाहर जाते सीसीटीवी फुटेज देखी लेकिन कहीं भी बंदूक की उपस्थिति नहीं दिखी इससे पुलिस का शक बढ गया कि कहीं मामले को पेचीदा व एकतरफा बनाने के लिए कहीं झूठी कहानी तो नहीं गढी गई है। इससे शक की सूई उद्यमी की ओर घूम गई है कि बंदूक गई तो गई कहां। क्योंकि अगर बंदूक अंदर आई तो तुरंत पुलिस ने आरोपी युवकों को अंदर से ही हिरासत में लिया और इसी बीच बंदूक के गायब होना गले नहीं उतरता। यानि बंदूर न उद्योग में मिली और न ही आरोपियों की गाडी से। वहीं उद्यमी मुकेश सैणी ने कहा कि युवकों ने उनके कैबिन में पिस्टल टेबल पर रखी थी लेकिन उनके पर्नसल कैबिन में सीसीटीवी नहीं है इसलिए यह दृश्य कैद नहीं हो पाया। अब सारा मामला सुलझाना पुलिस के लिए पेचीदा बन गया है।

– पलायन के लिए होंगे मजबूर..
मालिक का कहना है कि उन्होंने अपना उद्योग हिमाचल में इसलिए लगाया था कि यहां पर माहौल शांतिपूर्ण था। लेकिन अब बीते दो-तीन साल से लगातार बदमाशों की फोन कॉल जा रहे हैं। अब तो दिनदहाड़े ही लोग उनके फैक्ट्रियों में घुसकर पैसे मांगने लगे हैं। उन्होंने कहा कि अगर इसी तरह चलता रहा तो वह अपने उद्योगों को बंद करके पलायन को मजबूर होंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।