किसानों को रबी फसल में धान की अपेक्षा मक्का एवं दलहन, तिलहन की खेती को बढ़ावा देने प्रोत्साहित करें-कलेक्टर
January 14th, 2020 | Post by :- | 100 Views

छत्तीसगढ़(कांकेर)टोकेश्वर साहू। रबी फसल को बढ़ावा देने के लिए कृषि, उद्यानिकी, पशुधन विकास और जलसंसाधन विभाग के अधिकारियों की कलेक्टर श्री के.एल.चौहान ने जिला पंचायत के सभाकक्ष में समीक्षा बैठक लेकर जिले के किसानों को दलहन, तिलहन एवं मक्का की फसलें को बढ़ावा देने के लिए निर्देश दिए। उन्होंने समीक्षा करते हुए कहा कि रबी सफल में धान की अपेक्षा मक्का कम पानी में अधिक पैदावार होती है, धान में ज्यादा पानी की आवश्यकता होती है और पैदावार कम होती है जिससे धान की मूल्य से मक्का के समर्थन मूल्य अधिक है, इसलिए किसानों को कृषि विभाग के मैदानी अमला आरएईओ को निर्देशित करते हुए कहा कि गांव-गांव में किसानों की बैठक लेकर पखांजूर क्षेत्र को छोड़कर जिले के 16 हजार हेक्टेयर रकबा में मक्का की खेती करने किसानों को प्रेरित करने निर्देश दिए। उन्होंने रबी फसल में मक्का, सुरजमुखी, दलहन, तिलहन, चना, गेहू और साग-सब्जी की खेती को बढ़ावा देने के लिए समीक्षा किया। कलेक्टर श्री चौहान ने कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि नारा लेखन के माध्यम से किसानों में जागरूकता लाने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि किसानों के परंपरागत कृषि पद्धिति को छोड़कर आधुनिक कृषि करने के लिए किसानों का कलस्टर बनाकर मक्का की खेती को बढ़ावा देने के लिए प्रचार-प्रसार कराना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने समीक्षा के दौरान ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों को निर्देशित कर कहा कि अपने कार्य क्षेत्र के आश्रम छात्रावासों में शतप्रतिशत बागवानी लगाने के लिए अधीक्षकों को प्रेरित करें।

कलेक्टर श्री चौहान ने जिले के जिन गांवों में गौठान है उन गांवों में रबी की फसलों का रकबा दोगुना बढ़ाई जाए जिससे किसानों के आय में वृद्धि हो सके। किसान अपने पशुओं को गौठान में प्रतिदिन लायें जिससे रबी की फसल को नुकसान होने से बचाया जा सके। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ. संजय कन्नौजे, उप संचालक कृषि एन.के नागेश, उप संचालक उद्यान व्ही.के. गौतम, जल संसाधन विभाग के कार्यपालन अभियंता आर.आर वैष्णव सहित संबंधित विभाग के मैदानी अधिकारी कर्मचारी उपस्थि थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।