गढ़वाल सभा के नववर्ष कैलेंडर का विमोचन गढ़वाल सभा अपना दायरा बढ़ाए: संत शर्मा “चंडीगढ़ से भी पुरानी है कालका की गढ़वाल सभा” ।
January 13th, 2020 | Post by :- | 205 Views

कालका (चन्द्रकान्त शर्मा)।

गढ़वाल सभा कालका की बैठक रविवार शाम को गढ़वाल भवन टगरा रोड कालका में सभा प्रधान भगवान सिंह मित्रवाण की अध्यक्षता में संपन्न हुई जिसमें भाजपा नेता संत शर्मा मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि संत शर्मा ने सभा के वर्ष 2020 के कैलेंडर का विमोचन भी किया। कैलेंडर पर श्री केदारनाथ धाम की फोटो छपी हुई है। मुख्य अतिथि संत शर्मा ने सभी सदस्यों को गढ़वाल सभा का दायरा बढ़ाने का सुझाव देते हुए कहा कि सबसे पुरानी सभा के सदस्यों को कालका क्षेत्र की अन्य सामाजिक संस्थाओं के कार्यक्रमों में अवश्य जाना चाहिए और दूसरी सभा के सदस्यों को अपने कार्यक्रम में आमंत्रित करना चाहिए। क्योंकि कालका क्षेत्र में सभी लोग विभिन्न प्रांतों से यहां आकर बसे हुए हैं। जब आप सभी कालका में रहते हैं तो सभी कालका निवासी हुए। उन्होंने गढ़वाल सभा का विस्तार कर आगे बढ़ने की सलाह भी दी और हर संभव मदद का भरोसा देते हुए उन्होंने कहा मुझे भी आपकी सभा से बहुत अधिक लगाव है। इससे पूर्व बोलते हुए सभा प्रधान भगवान सिंह ने बताया कि कालका गढ़वाल सभा चंडीगढ़ की सभा से भी पुरानी है इसका गठन और रजिस्ट्रेशन सन् 1957 में किया गया था। उसके बाद सभा ने बीते वर्षों में अनेक उतार-चढ़ाव देखे लेकिन संस्था अपने कार्यों को आगे बढ़ाने में अडिग रही। उन्होंने कहा कालका क्षेत्र में गढ़वाल सभा के काफी संख्या में सदस्य रहते हैं जो हमेशा मौजूदा सरकार के साथ खड़े रहते हैं। उन्होंने मुख्य अतिथि संत शर्मा के समाज सेवा कार्यो की प्रशंसा करते हुए कहा कि इनके जैसे समाजसेवी बहुत कम होते हैं जो गढ़वाल सभा के साथ दिल से जुड़े हैं और गढ़वाल सभा भी दिल से जुड़ने वालों का सम्मान करती है। बैठक में प्रधान भगवान सिंह, महा सचिव गिरीश देवली, आनंद सिंह बिष्ट, सत्येंद्र प्रसाद धस्माना, विकास रमोला, भद्रमणि किमोठी, महेंद्र प्रसाद भट्ट, गोविंद सिंह तोपवाला, कुलदीप सिंह नेगी, राजेश थपलियाल, देवेंद्र प्रसाद चमोला और मीडिया एडवाइजर महेश रमोला सहित अन्य सदस्य मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।