पुरानी पैंशन बहाली के लिए मुलाना विधायक को सौंपा ज्ञापन
January 13th, 2020 | Post by :- | 106 Views

बराड़ा 13 जनवरी (जयबीर राणा)पुरानी पैंशन बहाली के लिए विधायक को ज्ञापन सौंपा बराड़ा
पेंशन बहाली संघर्ष समिति, ब्लॉक बराड़ा के प्रधान राजकुमार सैहला व सचिव लहरी सिंह के नेतृत्व में नेशनल मूवमेंट फॉर ओल्ड पेंशन स्कीम के अंतर्गत पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने के संदर्भ में हलका मुलाना के विधायक वरुण चौधरी को एक ज्ञापन सौंपा| ज्ञापन के माध्यम से उन्होंने प्रदेश सरकार से कहा कि केंद्र सरकार द्वारा 1 जनवरी 2004 व हरियाणा सरकार द्वारा 1 जनवरी 2006 से अपने कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन को समाप्त कर नहीं परिभाषित अंशदाई पेंशन योजना लागू कर दी है, जो शेयर मार्केट के जोखिम पर आधारित है| उन्होंने कहा कि नई पेंशन व्यवस्था में कर्मचारियों के वेतन व महंगाई भत्ते का 10% कटौती कर तथा उतनी ही राशि सरकार द्वारा जमा कर निजी क्षेत्र में लगाना अन्यपूर्ण है| बाजार आधारित व्यवस्था होने के कारण इसमें किसी भी तरह के रिटर्न की गारंटी नहीं है, जिसके कारण यह व्यवस्था कर्मचारी की सेवानिवृत्ति के बाद सामाजिक आर्थिक और स्वास्थ्य सेवा सुरक्षा को समाप्त करती है तथा नई पेंशन व्यवस्था कर्मचारियों के लिए बेहद अहितकारी है जिसमें उक्त तिथि के बाद नियुक्त समस्त विभागों के कर्मचारी व अधिकारी अपने भविष्य को लेकर असुरक्षित महसूस कर रहे हैं| पीएफआरडीए किसी भी राज्य सरकार को पुरानी पेंशन व्यवस्था बनाए रखने की स्वतंत्रता प्रदान करता है| पश्चिमी बंगाल इसका उदाहरण है जहां आज भी पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू है| तेलंगाना और दिल्ली सरकार ने पुरानी पेंशन को पुनः बहाल करने बारे नई नोटिफिकेशन जारी की है उन्होंने मांग की है कि हरियाणा सरकार के अधीन 150000 कर्मचारियों की 25 से 30 साल की सेवा का सम्मान करते हुए उन्हें पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू कर अपने अपने कर्मचारियों को सामाजिक आर्थिक और स्वास्थ्य सेवा सुरक्षा प्रदान करें|
इस अवसर पर मुख्य रूप से पेंशन बहाली संघर्ष समिति के प्रांतीय उप प्रधान कमलदीप हुसैनी, कंवर विजय आनंद सदस्य राज्य कार्यकारिणी, जिला प्रधान रमेश धीमान, सुदेश प्रधान बिजली बोर्ड, रण सिंह राणा, प्रिंस बक्शी प्रेस प्रवक्ता, संजीव गुप्ता, इंद्रजीत, जगमोहन सिंह, अमनदीप सिंह, संजीव खेत्रपाल, गुरमान सिंह आदि भारी संख्या में कर्मचारी मौजूद रहे|

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।