हिन्दुत्व सम्पूर्ण विश्व के सुख, भाईचारे एवं सर्वत्र शान्ति की विचारधारा- गोविन्द सिंह ठाकुर
January 12th, 2020 | Post by :- | 105 Views

– दून विधानसभा क्षेत्र के सलगां मतदान केन्द्र में नागरिकता संशोधन अधिनियम पर जनजागरण अभियान ….

बद्दी! वन, परिवहन तथा युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि हिन्दुत्व सम्पूर्ण विश्व के सुख, भाईचारे एवं सर्वत्र शान्ति की विचारधारा है और हमारी संस्कृति के इस मूलभूत तत्व से स्वामी विवेकानन्द ने पाश्चात्य जगत को अवगत करवाया। गोविन्द सिंह ठाकुर आज सोलन जिला के दून विधानसभा क्षेत्र के सलगां मतदान केन्द्र में नागरिकता संशोधन अधिनियम के सन्दर्भ में आयोजित जनजागरण अभियान को सम्बोधित कर रहे थे।
गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर आज हम सभी को यह प्रण लेना होगा कि हम नागरिकता संशोधन अधिनियम के मूल तत्व को समझेंगे और समाज में इस अधिनियम के बारे में फैलाए जा रहे भ्रम को दूर करने में सहायक बनेंगे। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति सदैव पीड़ित की रक्षा और उसे आसरा देने के लिए जानी जाती रही है। नागरिकता संशोधन अधिनियम के माध्यम से भी भारतीय संस्कृति की अवधारणा को पुष्ट किया गया है। उन्होंने कहा कि अधिनियम भारत के संवैधानिक रूप से मुस्लिम बहुल उन पड़ोसी राष्ट्रों के अल्पसंख्यकों को नागरिकता देगा जो अपने देश में धार्मिक एवं अन्य कारणों से पीड़ित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस अधिनियम के तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के हिंदू ,बौद्ध, सिख, ईसाई, जैन और पारसी धर्मावलंबियों को भारत की नागरिकता दी जाएगी।
वन मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने यह निर्णय इन देशों में अल्पसंख्यकों की दुर्दशा और भारत की वैश्विक जिम्मेदारी को देखते हुए लिया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धर्म के नाम पर अल्पसंख्यकों को प्रताड़ित किया जाता है। इस संदर्भ में पूरे विश्व में प्रत्येक देश को जानकारी है। उन्होंने कहा कि ऐसे प्रताड़ित अल्पसंख्यक भारत में आते हैं और इन्हें नागरिकता देना हमारा कर्तव्य है। अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने के लिए केंद्र सरकार ने नियम तय किए हैं और इन नियमों के आधार पर ही अल्पसंख्यकों को देश में नागरिकता दी जाएगी।
परिवहन मंत्री ने कहा कि यह अधिनियम नागरिकता देने के लिए है ना कि देश में रह रहे नागरिकों की नागरिकता छीनने के लिए। उन्होंने कहा कि सभी प्रदेश एवं देशवासियों को यह समझना होगा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम देश के किसी भी नागरिक के विरुद्ध नहीं है और इस दिशा में फैलाए जा रहे मिथ्या प्रचार से हम सभी को दूर रहना होगा और एक-एक व्यक्ति को इस संबंध में सच्चाई से अवगत करवाना होगा। उन्होंने कहा कि यह अधिनियम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को सही मायनों में श्रद्धांजलि है।
वन मंत्री ने ठेठपुरा से सलगां तक संपर्क मार्ग का प्राक्कलन शीघ्र तैयार करने के वन विभाग को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्थानीय विद्यालय में खेल मैदान के लिए भूमि शिक्षा विभाग के नाम की जाए ताकि इस कार्य के लिए बजट जारी किया जा सके। उन्होंनेे कहा कि ग्राम पंचायत पट्टानाली के सभी युवक मंडलों को क्रिकेट किट प्रदान की जाएगी। उन्होंने ग्राम पंचायत के सभी महिला मंडलों को 5000-5000 रुपए प्रदान करने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में कैंथा से चढयार तक बस सेवा आरंभ करने के लिए परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक को संभावनाएं तलाशने के लिए कहा जाएगा।
उन्होंने इस अवसर पर जन समस्याएं भी सुनीं और अधिकारियों को इनके शीघ्र निपटारे के निर्देश दिए।
दून के विधायक परमजीत सिंह पम्मी ने वन मंत्री का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र में बूथवार लोगों को नागरिकता संशोधन अधिनियम की वास्तविकता से अवगत करवाया जा रहा है। उन्होंने सलगां संपर्क मार्ग सुधारने, कैंथा से चढयार के लिए बस सेवा आरंभ करने, ठेठपुरा-सलगां संपर्क मार्ग निर्मित करने और अन्य मांगों से परिवहन मंत्री को अवगत करवाया।
इस अवसर पर दून की पूर्व विधायक विनोद चंदेल तथा प्रदेश भाजपा कार्यकारिणी सदस्य डाॅ. श्रीकांत ने भी अपने विचार रखे।
ग्राम पंचायत पट्टानाली के पूर्व प्रधान विमल किशोर ने सभी का स्वागत किया और प्रधान आशा कंवर ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
इस अवसर पर राज्य गौरक्षा बोर्ड के उपाध्यक्ष अशोक शर्मा, जिला भाजपा उपाध्यक्ष बलविंदर ठाकुर, जिला परिषद सदस्य रमा ठाकुर, भाजपा महामंत्री कश्मीरी लाल एवं खेमचंद, बूथ अध्यक्ष जयपाल, बीडीसी सदस्य विद्या देवी, भाजपा मंडल दून के उपाध्यक्ष कृष्ण कौशल, ग्राम पंचायत पट्टानाली के पूर्व प्रधान प्रेम सिंह सहित भाजपा तथा भाजयुमो के अन्य पदाधिकारी, विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी तथा बड़ी संख्या में क्षेत्रवासी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।