ट्रेड यूनियनों की देशव्यापी हड़ताल का स्टील नगरी भिलाई पर रहा व्यापक असर
January 8th, 2020 | Post by :- | 126 Views

 

छत्तीसगढ़़ (दुर्ग / भिलाई) । देशव्यापी हड़ताल का असर छत्तीसगढ़ में भी दिखा। बीएसपी यूनियनों के साथ ही प्रदेश भर में बैंकों की हड़ताल के कारण आम लोगों पर खासा असर पड़ा। देश की राजधानी दिल्ली से लेकर कर्नाटक व केरल तक ट्रेड यूनियनों ने प्रदर्शन किया। वहीं ट्रेड यूनियनों और बैंकों के हड़ताल को भिलाई इस्पात सयंत्र के मजदूर संगठनों ने आज अपना समर्थन दिया है। बीएसपी के मेन गेट पर आज सुबह से ही कर्मचारी संगठन जुटे रहे और हड़ताल का समर्थन किया। इन हड़ताल में कांग्रेस के मजदूर संगठन-इंटक के अलावा वामदलों के मजदूर संगठन एटक, सीटू, एआईयूटीयूसी, टीयूसीसी, एसईडब्ल्यूए, एआईसीसीटीयू, एलपीएफ, यूटीयूसी व एचएमएस समेत अनेक मजदूर संघ शामिल है।

सिविक सेंटर में श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ लगे नारे

केंद्र सरकार की श्रम विरोधी नीतियों के विरोध में बैंक व बीमा क्षेत्र में भी हड़ताल रही। बैंक अधिकारी एवं कर्मचारियों के पांच संगठन ए एआईबीईए -एआईबीओए -बीईएफई –आईएनबीईएफ -आईएनबीओसी भी इस हड़ताल में शामिल हैं। आज सुबह से ही आंध्रा बैंक सीविक सेंटर शाखा के सामने बड़ी संख्या में बैंक कर्मियों ने जमा होकर केन्द्र की श्रम विरोधी नीतियों के विरोध में रैली निकाली। यही नहीं वाहन रैली के रूप में बैंक कर्मियों ने दुर्ग में पटेल चौक कचहरी चौक धरना स्थल पर पहुंचे और वहां जिला ट्रेड यूनियन काउंसिल भिलाई – दुर्ग के बैनर तले बाकी हडताली कर्मियों के साथ नारेबाजी की।

ऑनलाइन शॉपिंग के खिलाफ मोबाइल दुकाने रही बंद

इधर ऑनलाइन शॉपिंग व ई-कामर्स कंपनियों के विरोध में आज प्रदेशभर के मोबाइल संचालकों ने अपनी दुकानों को बंद रखा। देशव्यापी आंदोलन के कड़ी में इन व्यापारियों ने अपनी दुकानों को बंद रख ई-कामर्स कंपनियों के खिलाफ नकेल कसने सरकार से मांग की है। ऑल इंडिया मोबाइल रिटेलर्स एसोसिएशन व कैट के बैनर तले देशभर में ई-कामर्स कंपनियों का विरोध किया गया। यही नहीं आज दिल्ली के रामलीला मैदान में भी बड़ी तादात में व्यापारियों ने संगठित होकर केन्द्र सरका के प्रति नारेबाजी की।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।