बजरंग दल चंडीगढ़ ने दो टूक कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ अत्याचार सहन नहीं किया जायेगा और किया रोष प्रदर्शन
January 5th, 2020 | Post by :- | 252 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) विश्व हिंदू परिषद के गौरक्षा आयाम और बजरंग दल के नेतृत्व में पाकिस्तान में ननकाना साहिब पर हुए कायराना हमले के खिलाफ पाकिस्तान सरकार का पुतला दहन मलोया में किया ।

इस मौके पर बिहिप के गौरक्षा चंडीगढ़ अध्यक्ष ऋषि राज और बजरंग दल चंडीगढ़ संयजोक श्री नरेंद्र बंसल ने एक सयुक्त व्यान में बताया कि पाकिस्तान में सिखों के ऐतिहासिक स्थल श्री ननकाना साहिब पर वहाँ के मुसलमानों ने भीड़ की शक्ल में एकत्रित हो हमला किया और ननकाना साहिब का नाम बदलकर गुलामे मुस्तफ़ा कर देने की धमकी देने के साथ साथ यह भी धमकी दी कि हम सिखों को ननकाना साहिब में रहने नहीं देंगे,उन्होंने ने कहा कि इस्लामिक देशों में अल्पसंख्यकों के साथ क्या हो रहा है यह इसकी एक जीती जागताी मिसाल है।

पंजाब प्रांत के सह गौरक्षा प्रमुख जितेंदर दलाल और बजरंग दल चंडीगढ़ पालक दविंदर सिधु ने कहा कि भारत में अपने स्वार्थी अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले राजनेता एवम् राजनीतिक दल इस घटना से सचेत हो जाये कि वो इतनी गंदी राजनीति कर रहे है कि उनके अल्पसंख्यक हिंदूओ की कोई परवाह नहीं है, उनकी बेटियाँ उनकी बहूयें उनके परिवार उनकी संपत्ति सुरक्षित नहीं है इसकी उनको कोई परवाह नहीं है केवल स्वार्थी राजनीति के लिये CAA का बह विरोध कर रहे हैं और देश में हिंसा भड़का रहे है ।
उन्होंने आगे कहा कि केंद्र सरकार को पाकिस्तान के ऊपर दबाव डालना चाहिए और विश्व हिंदू परिषद भी यह माँग करती है कि पाकिस्तान अपने अल्पसंख्यकों की रक्षा करे और उन्हें अत्याचारों से बचाये ।

मंत्री सुरेश राणा ने बताया की इस मौके पर अनुज कुमार सहगल, पंकज गुप्ता, मनोज शर्मा, मुनीष बख्शी,शिप्रा बंसल, आरती शर्मा,अजय,बॉबी, सुरेश, विजय, पंकज, कमलेश, स्नेहल, राजेंद्र गुप्ता, अरविंद मौर्य, पंकज, राहुल, प्रीतम, दिनेश, अरविंद शुक्ला, राकेश चौधरी, अभिषेक, विक्रम, आशा जिंदल, राजेश विठला, सुशील जैन, सतनाम सिंह मुंडा , नरेश अरोड़ा आदि अनेक उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।