एसडीएम के तबादले के कारण नहीं हो सकी अविश्वास की प्रक्रिया पूरी।
January 3rd, 2020 | Post by :- | 122 Views

बराड़ा, जयबीर राणा थंबड़)
बराड़ा नपा प्रधान को कुर्सी से उतारने के लिए 15 दिन से भूमिगत बागी पार्षद आज अविश्वास प्रस्ताव प्रक्रिया में भाग लेने उपमंडल अधिकारी के कार्यालय में पहुंचे। लेकिन 1 घंटे के इंतजार के बाद भी एसडीएम बराड़ा मौके पर नहीं पहुंचे जिसके चलते अविश्वास प्रस्ताव प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी। सूत्रों की मानें तो एसडीएम् बराड़ा भारत भूषण कौशिक के तबादले के चलते यह प्रक्रिया पूर्ण नहीं हो पाई और कड़ी सुरक्षा के बीच बागी पार्षद अज्ञात स्थान के लिए रवाना हो गए। दरअसल 15 पार्षदों में से 11 पार्षदों ने बराड़ा नपा चेयरपर्सन रमा खेत्रपाल पर विकास कार्यों में भेदभाव का आरोप लगाया है। रमा खेत्रपाल से नाराज पार्षदों सुरजीत सिंह, अमित कुमार, योगिता रानी, जसविंद्र सिंह, मुनीश कुमार, सीमा देवी, शमशेर सिंह, अभिलाषा, दीपक बाजवा, अंजू रानी व रिचा पाहवा ने गत दिनों डीसी अंबाला को ज्ञापन सौंपकर चेयपर्सन के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव पारित किए जाने की मांग की थी। जिस पर डीसी अंबाला अशोक शर्मा ने बराड़ा उपमंडल अधिकारी भारत भूषण कौशिक को मामलें में संज्ञान लेने सम्बन्धी आवश्यक दिशा निर्देश दिए थे। उपमंडल अधिकारी द्वारा पार्षदों को अविश्वास प्रस्ताव सम्बन्धी नोटिस जारी कर आज बहुमत सिद्ध करने का समय दिया गया था।

बॉक्स: बागी पार्षदों में वार्ड 2 से अमित कुमार, वार्ड 3 से सुरजीत सिंह, वार्ड 4 से अभिलाषा, वार्ड 6 से संदीप, वार्ड 8 से शमशेर, वार्ड 9 से मुनीश कुमार, वार्ड 11 से जसविंद्र सिंह, वार्ड 13 से रिचा पाहवा व वार्ड 15 से दीपक बाजवा शामिल हैं। वहीं पार्षद बलजिंद्र सिंह, मोंटी अरोड़ा, चेयपर्सन रमा खेत्रपाल के पक्ष में बताए जा रहे हैं।

पक्ष:
यह भाजपा का अंदरूनी मामला है। नपा कार्यालय में पहले ही स्टाफ पूरा नहीं है और इस प्रकरण की वज़ह से काफी दिनों से स्थानीय पार्षद उपलब्ध नहीं हैं। जिस कारण जनता को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है।

:वरुण चौधरी, विधायक मुलाना।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।