पीलीभीत : एल एच शुगर मिल में तौल लिपिकों ने फैक्ट्री में गन्ना घट तौली को लेकर जमकर किया हंगामा
January 1st, 2020 | Post by :- | 561 Views

पीलीभीत, विक्रान्त शर्मा । पीलीभीत एल एच शुगर मिल में देर शाम तौल लिपिकों ने घट तौली को लेकर हंगामे का मामला सामने आया है । वहीं घट तौली को लेकर शुगर मिल में हँगामें की सूचना मिलते ही फैक्ट्री के gm, सहित केन मैनेजर अपने स्टाफ के साथ मौके पर जा पहुँचे। गन्ना घट तौली को लेकर तौल लिपिकों व gm के बीच जमकर धक्का मुक्की हुई वहीं घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मामले पर काबू पाया ।

तस्वीरों में आप जो धक्का मुक्की कर नारेबाजी करते लोगो को देख रहे है,, दरअसल ये तस्वीरें शहर के बीचों बीच बनी एल एच शुगर मिल की है । जहां तौल लिपिक सहित कई किसान अपना गन्ना फैक्ट्री लेकर आये थे । लेकिन गन्ना तौल में फैक्ट्री प्रशासन की मिली भगत के चलते तौल में घट तौली मिली । जिसको लेकर फैक्ट्री प्रशासन से शिकायत के बाद कोई कार्रवाई ना होने पर तौल लिपिक व किसानों ने gm व मैनेजर के खिलाफ नारेबाजी कर gm व स्टाफ के साथ जमकर धक्का मुक्की की वहीं घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौके पर पहुंच कर हल्का बल प्रयोग कर शांत मामले को शांत कराया ।

 

वहीं किसान का आरोप है कि सरकार किसानो के हित की बात कर रही है और ये फैक्ट्री के लोग घट तौली कर किसानों की जेब काट कर किसानों को चूना लगाकर करोड़ो का घोटाला कर रहे है । जिसको लेकर हम तौल लिप्किओ व किसानो ने विरोध किया तो पुलिस बल वाकर हमे धमकाया जा रहा है ।

तौल लिपिक का कहना है कि हमारा धर्म कांटे से गन्ना तौल कर फैक्ट्री लाया गया था जिसमे फैक्ट्री द्वारा तौल में 1 किवंटल 50 किलो की घट तौली पाई गई जिसको लेकर तौल लिपिकों सहित किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया है । फैक्ट्री प्रशासन अपने निजी स्वार्थ के लिए गन्ना घट तौली कर किसानों की जेबें काट कर अपना पेट भरने का काम कर रहे है और जिस ओर जिला प्रशासन का कोई ध्यान नही है । सुना आपने एक तरफ योगी सरकार किसानों को उचित गन्ना मूल्य देकर जगह जगह घट तौली न होने का दावा पेश कर रही है तो शहर में चर्चित रही एल एच शुगर मिल तौल लिपिकों सहित किसानों की जेबो में डाका डालकर अपनी चांदी काट रहे है। वही जिला प्रशासन भी किसानों को बेहतर गन्ना का तौल के दावों को पोल खोलकर रख दी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।