डिजिटल इंडिया के दौर में गलियों और नालियों की बदहाली, नगर परिषद बद्दी पर जमकर बरसी हाउसिंग बोर्ड वेलफेयर समिति
December 30th, 2019 | Post by :- | 63 Views

– कॉलोनी को नगर परिषद नहीं दे रही कोई तवज्जो : संजीव कौशल

– मनोनीत पार्षद भी नहीं समझ रहे लोगों का दर्द…

हाऊसिंग बोर्ड रेजीडेंट वेलफेयर सोसायटी की मासिक बैठक का आयोजन संस्था के प्रधान संजीव कौशल की अध्यक्षता में में किया गया जिसमें कॉलोनी के अंदर आ रही सफाई व्यवस्था सुचारू रूप से ना किए जाने पर कमेटी के सदस्यों ने नगर परिषद की कार्यप्रणाली पर रोष प्रकट किया। कमेटी के सदस्यों ने कहा कि नगर परिषद को बार-बार अवगत करवाने के बावजूद भी किसी भी तरह के विकास कार्य तो हो ही नहीं रहे वहीं सफाई व्यवस्था सही ना होने के कारण कालोनी में रह रहे लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है । सोसायटी के अध्यक्ष संजीव कौशल, उपाध्यक्ष सुरेंद्र अत्री व कोषाध्यक्ष राकेश गुप्ता ने कहा कि नगर परिषद के सभी अधिकारियों, अध्यक्ष , उपाध्यक्ष व पार्षदों सहित बार-बार अवगत करवाने के बावजूद भी कॉलोनी की किसी भी समस्या का स्थाई समाधान नहीं किया जा रहा है जिसको लेकर वह जल्द ही मुख्यमंत्री शहरी ग्रामीण विकास मंत्रालय को लिखित में ज्ञापन भेजेंगे। उन्होने कहा कि वार्ड नौ से कांग्रेस समर्थित पार्षद है तो वह विकास का रोना रहते हैं तो भाजपा सरकार द्वारा मनोनीत पार्षदों के दर्शन भी धूप की तरह दुर्लभ होते जा रहे हैं। अब कुल मिलाकर यह वार्ड लावारिस बनकर रह गया है और भाजपा व कांग्रेस के बीच में पिस रहा है और परिणामस्वरुप लोग चंडीगढ पलायन कर रहे हैं।कॉलोनी में रह रहे लोगों ने बताया कि नगर परिषद द्वारा कूड़ा उठाने के एवज में किराएदार से लेकर मकान मालिक तक हर महीने पैसे वसूल रहे हैं जबकि इसको लेकर किसी भी तरह का कोई नोटिस पहले नगर परिषद द्वारा जारी नहीं किया गया है । जो कर्मचारी पैसा एकत्रित कर रहे हैं वह नागरिकों से अप्रैल महीने से पैसे मांग रहे हैं जबकि नगर परिषद या किसी भी सरकारी विभाग द्वारा सार्वजनिक तौर पर किसी भी तरह की कोई नोटिफिकेशन जारी नहीं की है इसलिए इसकी वसूली दिसंबर से की जाए। लोगों का आरोप है कि अगर नगर परिषद ने कूड़ा कचरा उठाने के लिए हर महीने पैसे वसूल करने हैं तो पहले लोगों को सुविधा मुहैया कराएं तभी ही पैसे दिए जाएंगे अन्यथा नहीं दिए जाएंगे । बता दें कि नगर परिषद द्वारा जवीआर कंपनी के साथ एम यू सेंड किया है कि वह नगर परिषद बददी नगर परिषद नालागढ़ परवाणु वाह बीबीएनडीए क्षेत्र की 18 पंचायतों से घर-घर से गिला सुख का कचरा उठाने का जिम्मा सौंपा गया है। संजीव कौशल ने कहा कि अगर नगर परिषद ने अपनी कार्यप्रणाली नहीं संभाली तो वह धरना देने पर मजबूर हो जांएगे क्योंकि अब पानी सिर के उपर से निकल चुका है। भाजपा एक साल से नगर परिषद पर काबिज है लेकिन शहर के हालात फिर भी नहीं बदले और हर तरफ अव्यवस्थाएं देखने को मिल रही हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।