डमटाल पुलिस ने चिट्टे की मुख्य तस्कर महिला को6.10 ग्राम चिट्टे सहित किया काबू
December 29th, 2019 | Post by :- | 489 Views

इंदौरा (मुकेश सरमाल)

नशा तस्करों के खिलाफ पुलिस मुस्तैदी से निपट रही है। खासकर सीमावर्ती क्षेत्रों में पुलिस ने कई नशा कारोबारियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया है। आज पुलिस ने चिट्टे की मुख्य तस्कर महिला को भी चिट्टे सहित काबू करने में सफलता हासिल की है जिसका पूरा परिवार इस काले कारोबार में लिप्त है…..

  • चिट्टा तस्करी में संलिप्त है महिला का पूरा परिवार
  • बहन और पिता भी हैं न्यायिक हिरासत में
  • चिट्टे सहित गिरफ्तार कर पुलिस ने हिरासत में ली महिला

डमटाल, छन्नी ओर भदरोया क्षेत्र में चिट्टे का कारोबार थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस एरिया में पुरुषों के मुकाबले अधिकतर महिलाएं ही नशे की तस्करी का काम कर रही हैं। आए दिन कोई न कोई नशे की तस्करी का मामला डमटाल और इंदौरा थानों में दर्ज हो रहे है। इसी क्रम में बड़ी कार्रवाई करते हुए थाना डमटाल की पुलिस की टीम ने भदरोया में एक महिला को 6.10 ग्राम चिट्टे सहित काबू करने में सफलता हासिल की है।

जानकारी देते हुए थाना डमटाल के प्रभारी हरीश गुलेरिया ने बताया के आज थाना डमटाल के सहायक उपनिरिक्षक कुलदीप सिंह अपनी टीम सहित भदरोया एरिया में गश्त कर रहे थे। इस दौरान पुलिस को गुप्त सूचना मिली के भदरोया गांव में एक महिला अपने घर में नशीले प्रदार्थो की तस्करी का काम करती है। अगर उसके घर मे दबिश लेकर सर्च की जाए तो पुलिस को सफलता मिल सकती है। पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार और बताए गए घर में दबिश दी और घर की तलाशी लेने पर घर से 6.10 ग्राम चिट्टा बरामद हुआ।

चिट्टे सहित पकड़ी गई महिला की पहचान रजनी बाला उर्फ रज्जी पत्नी अक्षय कुमारपुत्री सरदारी लाल गांव भदरोया तहसील इंदौरा के रूप में हुई है। पुलिस ने महिला से पकड़ी गई नशे की खेप को कब्जे में लेकर आरोपी महिला के खिलाफ थाना डमटाल में मुकद्दमा पंजीकृत किया गया है। थाना प्रभारी हरीश गुलेरिया ने बताया कि आरोपी रजनी काफी समय से नशे के अवैध कारोबार में शामिल थी तथा पुलिस काफी समय से इसकी तलाश कर रही थी। इसकी सगी बहन सोनिया के खिलाफ भी नशे की तस्करी करने के 5 मुकद्दमे दर्ज हैं और वह भी अभी तक न्यायिक हिरासत में है। रज्जी के पिता के खिलाफ भी नशा तस्करी के 7 मुकद्दमे दर्ज हैं। वह भी अभी तक पठानकोट (पंजाब) में न्यायिक हिरासत में है। इसका पूरा परिवार चिट्टे के अवैध कारोबार में शामिल है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।