जिले की बेटी पूनम चौहान का वायुसेना में फ्लाइंग ऑफिसर रैंक पर चयन |
December 26th, 2019 | Post by :- | 1082 Views

गांव औरंगाबाद (पलवल) में पहुंचने पर बेटी का किया जाएगा भव्य स्वागत |

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-जिला पलवल के गांव औरंगाबाद की बेटी पूनम चौहान ने वायुसेना में ट्रैनिंग लेने के बाद फ्लाइंग ऑफिसर का रैंक प्राप्त कर अपने जिले का नाम रोशन किया है। बेटी के फ्लाइंग ऑफिसर बनने की सूचना जैसे ही गांव औरंगाबाद के ग्रामीणों को मिली वैसे ही ग्रामीणों में खुशी की लहर दौड गई। गांव के सरपंच व ग्रामीणों द्वारा बेटी पूनम चौहान का नव वर्ष पर गांव में पहुंचने पर भव्य स्वागत किया जाएगा। बेटी की इस उपलब्धि पर गांव के सरपंच हरदीप सिंह व ग्रामीणों ने बेटी पूनम चौहान व उनके पिता बाबूराम को फोन पर ढेरों बधाई दी है।

गांव औरंगाबाद (पलवल) निवासी सेना में पूर्व मेजर सूबेदार बाबूराम ने बताया कि देश की रक्षा के लिए उन्होंने अपने तीस साल सेना को दिए और अब उनकी बेटी पूनम चौहान ने वायुसेना में फ्लाइंग आफिसर की रैंक हासिल करने उनका सिर गर्व से और उंचा कर दिया। उन्होंने बताया कि पूनम चौहान में एमबीए की पढाई करने के बाद वायुसेना ज्वाइंन कर ली वहां वायुसेना अध्यक्ष आरकेएस मदोरिया की देखरेख में सफलता पूर्वक ट्रैनिंग लेने के बाद उसने फ्लाइंग ऑफिसर की रैंक हासिल की है। उन्होंने बताया कि बचपन से ही पूनम की इच्छा देश सेवा करने की थी और बार-बार मुझसे भी यह कहती थी कि पापा में भी आपकी तरह देश सेवा करना चाहती हूं।

उन्होंने बताया कि जब भी मैं सेना से घर आता तो वह मुझसे ड्यूटी पर अपने साथ ले जाने की जिदद करती। उन्होंने बताया कि वह तथा उनकी पत्नी तुलसा देवी बचपन से ही पूनम को कडी मेहनत कराते थे। उन्होंने बताया कि पूनम चौहान के साथ-साथ उनकी छोटी बेटी सोनम व पुनित में भी देश के प्रति काफी जज्वा है और अब उनकी बडी बहन की कामयावी को देख उनमें देश के प्रति जज्वा और बढ गया है। इसके अलावा पूनम का देश के प्रति जज्वा व उसकी कडी मेहनत का ही परिणाम है जो आज पूनम में वायुसेवा में फ्लॉइंग ऑफिसर का रैंक हासिल करके अपने गांव, जिले व माता-पिता का नाम रोशन किया है वहीं गांव के सरपंच हरदीप चौहान ने बताया कि पूनम चौहान का नव वर्ष पर गांव में पहुंचने पर फूल-मालाओं व ढोल-नगाडों से भव्य स्वागत किया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।