खनिज प्रभावित क्षेत्रों के विद्यालयों में होंगी शिक्षकों की भर्ती, खनिज प्रभावित परिवार के अभ्यर्थियों को प्राथमिकता
December 25th, 2019 | Post by :- | 101 Views

छत्तीसगढ़ (बस्तर-जगदलपुर) अरुण पाण्डेय् ।  बस्तर जिले के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से खनिज प्रभावित गांवों के प्राथमिक और माध्यमिक शालाओं में 253 शिक्षण सेवकों की सेवाएं जी जाएंगी। यह नियुक्ति नियमित शिक्षक की भर्ती होने अथवा चालू शैक्षणिक सत्र 15 अप्रैल 2020 तक के लिए वैकल्पिक रूप से की जा रही है। इसके लिए एक निश्चित मानदेय शिक्षण सेवकों को दिया जाएगा। जिले के विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालयों में प्राप्त आवेदन के आधार पर शिक्षण सेवकों के चयन की कार्यवाही की जा रही है। चयन के बाद शिक्षण सेवकों को डीएमएफ मद से 343 रूपए प्रति कार्य दिवस के आधार पर मानदेय दिया जाएगा।

जिला शिक्षा अधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्राथमिक शाला में शिक्षण सेवक के लिए आवेदक को विज्ञान संकाय में न्यूनतम द्वितीय श्रेणी के साथ उत्तीर्ण और डीएड को प्राथमिकता दी जाएगी। इसके बाद क्रमशः स्नातक विज्ञान द्वितीय श्रेणी, हायर सेकेण्डरी कला संकाय में द्वितीय श्रेणी एवं डीएड तथा स्नातक कला संकाय में न्यूनतम द्वितीय श्रेणी उत्तीर्ण को चयन पर प्राथमिकता दी जाएगी। इसी तरह माध्यमिक शालाओं के लिए विज्ञान संकाय से स्नातक में न्यूनतम द्वितीय श्रेणी एवं डीएड,बीएड को पहली प्राथमिकता दी जाएगी। इसके बाद स्नातकोत्तर विज्ञान संकाय न्यूनतम द्वितीय श्रेणी, स्नातक कला संकाय न्यूनतम द्वितीय श्रेणी, स्नातक कला संकाय न्यूनतम द्वितीय श्रेणी एवं डीएड,बीएड, स्नातकोत्तर कला संकाय न्यूनतम द्वितीय श्रेणी तथा स्नातक विज्ञान संकाय न्यूनतम द्वितीय श्रेणी को प्राथमिकता दी जाएगी। स्थानीय स्तर पर शिक्षण सेवक की व्यवस्था संबंधित खण्ड शिक्षा अधिकारी के द्वारा की जाएगी। इसके लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया जाएगा। चयन में ग्राम पंचायत के निवासी को प्राथमिकता दी जाएगी। पंचायत स्तर पर उम्मीदवार नहीं मिलने पर संकुल स्तर पर मेरिट लिस्ट बनायी जाएगी। इसके बाद विकासखण्ड स्तर मेरिट बनाकर चयन किया जाएगा। खनन प्रभावित परिवार से आवेदन प्राप्त होने पर उन्हें पहली प्राथमिकता दी जाएगी।

जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि यह अंतरिम व्यवस्था है। इसके लिए नियुक्ति अथवा पदस्थापना आदेश जारी नहीं किए जाएंगे। चयन होने पर आवेदक को संबंधित शाला प्रबंधन समिति द्वारा कार्यभार ग्रहण करने के लिए निर्देशित किया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।