देश दुनिया में शांति की दुआ के साथ तब्लीगी इज्तिमा जोड़ शांतिपूर्ण हुआ समाप्त : इज्तिमा के आखरी दिन करीब 3 लाख लोगों ने लिया भाग।
December 24th, 2019 | Post by :- | 84 Views

मेवात (सद्दाम हुसैन) मेवात के शहर नूंह के यासीन मेव डिग्री कॉलेज की ईदगाह में पिछले तीन दिन से चल रहे इस्लामिक जलसे के अंतिम दिन सोमवार को करीब तीन लाख लोगों की देश दुनिया में अमन शांति व भाईचारे की दुआ के साथ समाप्त हो गया। इस तब्लीगी जलसे में राजस्थान के अलवर, भरतपुर, कांमा, टपूकड़ा, भिवाड़ी, उतर प्रदेश के कोसी कलां, अलीगढ़, जेवर, पलवल, फरीदाबाद के अलावा मेवात के सभी खंडों के लाखो लोगों ने भाग लिया। यह जलसा 21 शुरू होकर 23 दिसम्बर को हज़रत मौलाना साद की दुआ के बात समाप्त हुआ। दुआ के समय जब ईदगाह का परिसर भर गया तो लोगो ने ईदगाह से लगती सड़क, स्कूल, अस्पताल में बैठकर दुआ मांगी। जिसमें मुख्य रूप से तब्लीगी जमात के अंतरराष्ट्रीय अमीर मौलाना हजरत मोहम्मद शाद ने शिरकत की।

इस मौके पर मौलाना साद ने लोगों को धर्म के मार्ग पर चलने की सीख दी। इस मौके पर उन्होंने दीन पर चलकर देश की अमन शांति में लोगों को भागीदारी करने की सलाह दी। उन्होंने लोगों को गरीबों की मदद करने की सलाह दी। हजरत मौलाना मोहम्मद शाद ने कहा कि अल्लाह उसकी मदद करते है जो अपनी मदद खुद करता है। हमेशा सच्चाई का साथ देना हर व्यक्ति का परम कर्तव्य है। दुनिया में आज कई तरह की बुराई फैल रही है। इन बुराईयों से आज के युवाओं को दूर रहना चाहिए। आज के युवाओं को भी अपने आसपास समाज की बुराईयों को दूर करने का प्रयास करना चाहिए। दहेज प्रथा, जुआ सट्टा, नशाखोरी सहित अन्य सामाजिक बुराईयों से दूरी बनाने की अपील की। इस दौरान मौजूद हजारों लोगों ने मौलाना मोहम्मद शाद को बड़ी ही शांति से सुना। इस दौरान युवा, बुजुर्ग व भारी संख्या में बच्चों ने भाग लिया।
वहीं जलसे के दौरान स्थानीय लोगों ने भी मेहमानों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो उसके लिए पूरा सहयोग किया। जिससे जलसा का शांतिप्रिय तरीके से समापन किया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।