पहली बार तब्लीगी जमात के इज्तिमा (जलसा) में आने वाले लोगो के स्वागत में लगे राजनेतिक होडिंग
December 24th, 2019 | Post by :- | 103 Views

मेवात (सद्दाम हुसैन) तब्लीगी जलसा और जमात आज तक किसी भी राजनेतिक पार्टी से दूर रहा है। राजनेतिक लोग तब्लीगी जल्सा में पहुचे तो हैं लेकिन अपने फायदे के लिए कोई इसका इस्तेमाल नहीं करता है। नूंह के चौराहे, मुख्यमार्ग आदि पर पहली बार नूंह से पूर्व विधायक एंव भाजपा नेता जाकिर हुसैन द्वारा अपने दादा और पिता के फोटो के साथ उर्दू और हिंदी में तबलीगी इज्तिमा में तशरीफ लाने वाले सभी हजरात का इस्तकबाल नाम से दर्जन भर होडिंग लगाऐ।

जिसपर कई लोगों ने नाराजगी भी जताई। नूंह ब्लोक समिति के वाईस चेयरमैन अरशद टांई और सहाबुदीन कैराका ने अपना ऐतराज जताते हुऐ कहा कि कुछ लोग धार्मिक जल्सों में भी अपनी राजनीति चमकाने के लिए होर्डिंग लगाते है जो गलत है। धार्मिक जलसा का किसी पार्टी से कोई लेना देना नहीं होता है। पहली बार पूर्व विधायक जाकिर हुसैन ने होर्डिंग लगाकर मेवात में एक नई परंपरा शुरू की है जो गलत है। ऐसे राजनीतिक होर्डिंग का इस्तेमाल नही करना चाहिये। अगर ये सिलसिला शुरू हुआ तो फिर हर छोटा बड़ा नेता भी अपने फायदे के लिए जलसा को होर्डिगो से पाट देंगे जिसकी वजह से ये जलसा धार्मिक न रहकर राजनीतिक हो जायेगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।