भाजपा सरकार ने देश को दंगों में झोंकने का काम किया: कैप्टन अजय
December 23rd, 2019 | Post by :- | 115 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  पूर्व बिजली मंत्री एवं दक्षिणी हरियाणा के दिग्गज कांग्रेस नेता कैप्टन अजय सिंह यादव ने कहा कि अगर देश भर में सीएए तथा एनआरसी बिल अगर लागू किया जाता है तो देश की अर्थव्यवस्था पर उसका बहुत बड़ा असर होगा । उन्होंने कहा कि 54600 करोड रुपए की राशि इस बिल के लागू होने पर खर्च होगी ।

पूर्व बिजली एवं वित्त मंत्री ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था पहले ही चरमराई हुई है । उद्योग धंधे बंद हो रहे हैं , महंगाई तथा बेरोजगारी चरम सीमा पर है ।भाजपा सरकार ने देश को दंगों में झोंकने का काम किया है । इसकी कड़ी शब्दों में निंदा करते हुए इस पर उन्होंने सरकार से पूर्ण विचार करने की बात कही है । पूर्व बिजली मंत्री कैप्टन अजय सिंह यादव ने पत्रकार से खास बातचीत में कहा कि सीएए तथा एनआरसी बिल लाने की कोई जरूरत नहीं है , वे इसके पूरी तरह से खिलाफ हैं। भाजपा देश को बांटने की साजिश कर रही है , जिसमें उसे किसी कीमत पर कामयाब नहीं होने दिया जाएगा । दिग्गज कांग्रेस नेता ने कहा कि देश में गरीब तथा अनपढ़ जो लोग हैं , उनके पास पूरी तरह से दस्तावेज नहीं है । वह कैसे नागरिकता साबित कर सकते हैं । भारत के मूल संविधान के साथ अगर छेड़छाड़ की गई तो इसे किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा । इस देश में जात – पात के नाम पर या धर्म के नाम पर कानून नहीं बना है । देश में सबको रहने खाने – पीने की पूरी आजादी है ।लेकिन भारतीय जनता पार्टी देश के संविधान के साथ जो छेड़छाड़ कर रही है वह सरासर गलत है । कांग्रेस इसका डट कर विरोध कर रही है । पूर्व बिजली मंत्री ने कहा कि इसके लिए उन्हें जहां तक भी जाना पड़ेगा वह पीछे नहीं हटेंगे और इस बिल की मुखालफत करते रहेंगे । सीएए , एनआरसी बिल का विरोध कर रहे जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों पर जो लाठीचार्ज इत्यादि से बर्बरता की गई , उसकीं जितनी निंदा की जाए , उतनी कम है। मामले की निष्पक्ष ओर त्वरित मांग कर कानून हाथ में लेने वाले पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की जाए।  आपको बताना जरूरी है कि गुरुग्राम लोकसभा से कांग्रेस की टिकट पर पूर्व मंत्री कैप्टन अजय सिंह यादव चुनाव लड़ चुके हैं। मुस्लिम बाहुल्य जिला नूह के मतदाताओं ने कांग्रेस को यहां करीब 1 लाख 88 हजार वोटों की लीड तीन विधानसभा क्षेत्रों में देने का काम किया था।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।