डी प्लान के तहत गांव में हो रहे विकास कार्या में जमकर हो रही है धांधली,
December 23rd, 2019 | Post by :- | 126 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  पुन्हाना उपमंडल के गांव सुनहेड़ा में हो रहे विकास कार्य सरपंच तथा ग्राम सचिव की मिलीभगत कर भ्रष्टाचार की भेट चढ़े हुए हैं। जिसकी शिकायत ग्रामीणों ने सीएम विंडो के माध्यम से मुख्यमंत्री मनोहरलाल और जिला उपायुक्त से विजिलेंस टीम से जांच कराने की मांग की हैं। ग्रामीण शाजिद, नसीम, मकसूद, बिजेंद्र, रतिराम का कहना है कि सरपंच ने घटिया सामग्री से गांव में शमशान की चारदीवारी व इंटरलॉकिक तथा नालों का निर्माण कराया है। ग्रामीणों का आरोप है कि गांव के इंटरलॉकिक रास्तों पर पानी निकासी के लिए नालियों का कोई इंतजाम नहीं किया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के शमशानघाट पर सरपंच व ग्राम सचिव मिलीभगत से अवैध कब्जे हुए पड़े है और हर तरफ गलियों में गंदगी की भरमार है। अवैध कब्जे हटाने के लिए शमशान की चार दीवारी की गई, लेकिन घटिया निर्माण से बनी चारदिवारी 5 दिन में ही नीचे गिर गयी। आरोप है कि सरपंच द्वारा गांव में इंटरलॉकिंग टाइलों से सड़कों का निर्माण अवैध रास्तों पर कराया गया हैं। सरपंच ने अपनों लोगों को निजी फायदा पहुंचाने के लिए खेतों के रास्तों में तथा घरों के अंदर तक इंटरलॉकिंग टाइलों से रास्ते बनवाएं हुए हैं जो रास्ते बने हुए है उनमें घटिया किस्म का मैटेरियल प्रयोग किया गया हैं। रास्तों के नीचे मैटेरियल एवं कंक्रीट बिना डाले ही इंटरलॉकिंग टाइलों को बिछाया गया है। रास्तों के निर्माण में सरकार के मापदंडों को दरकिनार किया गया हैं जिसकी वजह से सड़कों पर लगी टाइलें उखड़ने लगी हैं और रास्तों पर जगह-जगह सड़के ऊबड़ खाबड़ होने लगी हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि पंचायत द्वारा बनाएं गए नालों में अवैध खनन के पत्थरों का भी प्रयोग किया गया है। निर्माण कार्या में कराएं जा रहे पत्थरों का को कोई रिकॉर्ड भी नहीं है। जिसके बारे में कई बार जेई से भी शिकायत भी की गई है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।
———–
वहीं इस मामले में पुन्हाना खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी (बीडीपीओ) उपमा का कहना हैं कि निर्माण कार्यों निर्माण कार्यों की जांच की जाएगी। अगर उसमें कही भी कमी पाई जाती हैं तो कार्रवाई की जाएगी। मौके पर एसडीओ व कनिष्ट अभियंता को जांच के लिए भेजा गया हैं। जांच के बाद ही आगे कार्यवाही की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।