रेलवे सैलानियों के लिए नववर्ष का तोहफा, कालका-शिमला के बीच 25 दिसंबर से शुरू होगी हिम दर्शन एक्सप्रेस
December 21st, 2019 | Post by :- | 93 Views

सोलन जिले में उत्तर रेलवे ने क्रिसमस के अवसर पर विश्व विरासत कालका-शिमला पटरी पर हिमदर्शन एक्सप्रेस को चलाने का फैसला लिया है। भारतीय रेलवे की यह पहली ट्रेन होगी, जिसमें व्यक्तिगत सीट चार्टर सेवाओं के आधार पर 6 विस्टाडोम कोच में नियमित आधार पर होंगी। आधुनिक सुविधाओं से लैस ट्रेन को 25 दिसंबर 2019 से 24 दिसंबर 2020 तक चलाया जाएगा।

मकसद पर्यटन को बढ़ावा देने का है। यात्रियों के लिए उत्कृष्ट मनोरम दृश्य होंगे। इसमें 6 आधुनिक व वातानुकूलित विस्टाडोम कोच हैं। फिलहाल इसमें सफर करने के लिए यात्री आरक्षण प्रणाली उपलब्ध है, शिमला व कालका काउंटर से ऑफलाइन बुकिंग भी होगी। फर्स्ट क्लास सीटिंग कम लगेज कोच की बुकिंग फिलहाल ऑफलाइन ही होगी।

ट्रेन कालका से सुबह 7 बजे चलेगी। शिमला पहुंचने का समय दोपहर 12ः55 बजे है। वापसी में 3ः50 बजे प्रस्थान करने के बाद रात 9ः15 बजे कालका पहुंचेगी। एकमात्र स्टॉप बडोग में होगा। ट्रेन में 6 फर्स्टक्लास एसी विस्टा डोम कोच व एक फर्स्ट क्लास सीटिंग कम लगेज कोच शामिल होगा। हरेक विस्टाडोम कोच में 15 यात्रियों के बैठने की क्षमता होगी, जबकि फर्स्ट क्लास सीटिंग कम लगेज कोच की क्षमता 14 होगी।

रेलवे का तर्क है कि अंबाला मंडल ने किराए को उचित रखने के लिए काफी मशक्कत की है, ताकि अधिक से अधिक पर्यटकों को इस तरह की सुखद यात्रा का अनुभव दिया जा सके। एक तरफ यात्रा का किराया 630 रुपए तय हुआ है। इसमें उम्र व बोर्डिंग के अलावा डी बोर्डिंग की शर्त लागू है। केएसआर सेक्शन के आधार पर अंतिम से अंत तक का किराया लिया जाएगा। टिकटों पर किसी भी तरह की रियायत लागू नहीं होगी। उत्तर रेलवे के अंबाला डिवीजन का कहना है कि डिवीजनल रेलवेज मैनेजर जीएम सिंह के कुशल नेतृत्व व मार्गदर्शन में संचालन संभव हो पा रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।