( विडियो भी देखे ) इनेलो नेता के भतीजे को हिरासत में लेने पहुंची पुलिस तो पूर्व मंत्री निर्मल सिंह के साथ हुई नोक झोंक
December 21st, 2019 | Post by :- | 165 Views

अम्बाला, ( गौरव शर्मा )   ।        अम्बाला में शुक्रवार को उस समय हंगामा हो गया, जब पुलिस एक मामले में पूछताछ के लिए इनेलो नेता ओंकार सिंह के भतीजे परमिंदर को हिरासत में लेने पहुंची।  मौके पर नेता ओंकार सिंह के साथ-साथ पूर्व कांग्रेस नेता निर्मल सिंह भी पहुंच गए। उनके और पुलिस के बीच जमकर हंगामा हुआ। आखिरकार पुलिस ने एक बार सभी को अपनी गाड़ियों में बैठा लिया लेकिन बाद में उन्हें छोड़ दिया गया। इस दौरान पुलिस व इन नेताओं के बीच जमकर नोक झोंक हुई। पुलिस का कहना है कि परमिंदर से पूछताछ की जाएगी, उसके खिलाफ सुबूत होंगे तो कार्रवाई होगी।

अम्बाला कैंट के डीएसपी राम कुमार ने बताया कि फर्जी दस्तावेजों के आधार पर म्यूटेशन करवाने का एक मामले की शिकायत उनके पास आई थी। इस शिकायत में उन्होंने एक महिला को गिरफ्तार किया था। महिला से पूछताछ की गई तो उसने आरोप लगाया कि उसने कागजात इनेलो नेता ओंकार सिंह के भतीजे परमिंदर से तैयार करवाए थे।

पुलिस इस मामले में पूछताछ के लिए परमिंदर को हिरासत में लेने गई थी। इस दौरान इनेलो नेता ओंकार सिंह व पूर्व कांग्रेस नेता निर्मल सिंह पहुंच गए। उन्होंने पुलिस को अंदर जाने से मना कर दिया। काफी देर तक उनकी व पुलिसकर्मियों की जमकर नोक झोंक हुई। इस हाई वोल्टेज ड्रामे के बीच पुलिस ने सभी को अपनी गाड़ी में बैठा लिया।

इसके बाद पुलिस घर के अंदर घुसी। जहां परमिंदर के पिता ने दरवाजा नहीं खोला। पुलिस ने जोर देकर कहा तो दरवाजा खोला और पुलिस परमिंदर को पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई। हालांकि इनेलो नेता ओंकार सिंह व पूर्व कांग्रेस नेता निर्मल सिंह  को बाद में छोड़ दिया गया।

ओंकार सिंह व निर्मल सिंह ने इस पूरे मामले के पीछे भाजपा नेता अनिल विज का हाथ होने के आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि क्योंकि उन्होंने विज के खिलाफ चुनाव लड़ा था तो पुलिस बदले की भावना से काम कर ही है। वहीं डीएसपी रामकुमार का कहना है कि पुलिस पर कोई दबाव नहीं है। परमिंदर का नाम आया है तो उससे पूछताछ की जाएगी। यदि उसके खिलाफ सुबूत मिले तो कार्रवाई भी की जाएगी।

 

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।