चालक लाइसेंस से हटी शिक्षा की शर्त बड़ा लाभ मेवात के चालकों को होगा , चालकों के अलावा मेवात की आवाम ने दिल से किया स्वागत
December 21st, 2019 | Post by :- | 102 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । नूह जिले के हजारों चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस नवीनीकरण का रास्ता ही नहीं बल्कि नए लाइसेंस बनवाने का रास्ता अब साफ हो चुका है। केंद्र सरकार ने लाइसेंस बनवाने के लिए लगाई गई आठवीं पास की शर्त को पूरी तरह हटा लिया है। इस नए नियम का लाभ तो पूरे देशभर के अनपढ़ ड्राईवर उठा सकेंगे , लेकिन मेवात जिले के करीब लाखों चालकों को इसका सबसे बड़ा लाभ मिलने जा रहा है। नूह जिले के समाजसेवी संगठनों तथा राजनेताओं ने पिछले कई वर्ष पढ़े – लिखे की शर्त को हटाने  दिन रात मेहनत की।  सूबे के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात कर नियमों में ढील की मांग की , जिसके बाद केंद्र सरकार ने इस मांग को मानते हुए इसे अमलीजामा पहना दिया है। नूह आरटीए कार्यालय में नए लाइसेंस बनने से लेकर नवीनीकरण पर अमल शुरू हो चुका है।
मेवात में बेरोजगारों की फौज लाइसेंस नवीनीकरण नहीं होने की वजह से लगातार बढ़ती जा रही थी ।   लाइसेंस नवीनीकरण नहीं होने के कारण मेवात की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ रहा था। करीब 30 हजार चालक जब घर आते थे , तो परिवार की जरुरी चीजों को खरीद कर पूर्ति कर अच्छी खासी रकम खर्च करते थे , लेकिन रोजगार चले जाने की सूरत में भूखे मरने की नौबत आन पड़ी थी । लाइसेंस नवीनीकरण का मामला पिछले कई सालों से लंबित था । ट्रक – डंपर इत्यादि चलाकर अपने परिवार का गुजारा करने वाले लोग बेरोजगारी के चलते अपराध की दुनिया में या फिर सामाजिक बुराइयों में कदम बढ़ा रहे थे । सूबे के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर फिरोजपुर झिरका में किसान धन्यवाद रैली को संबोधित करने पहुंचे थे तो मंच से ड्राइवरों के लाइसेंस रिन्यू करने की मांग प्रमुखता से उठी। सीएम मनोहर लाल ने भरोसा दिलाया कि मेवात के चालकों की इस समस्या के लिए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से बात कर नियमों में ढील दिलाई जाएगी , ताकि मेवात के चालकों के लाइसेंस रिन्यू हो सकें। बेरोजगार चालकों को बड़ी फौज प्रतिदिन लाइसेंस नवीनीकरण की आस लेकर आरटीओ कार्यालय या एडीसी के पास जाती थी ,लेकिन उन्हें रटारटाया एक ही जवाब मिलता था की अभी वेरिफिकेशन कराई जा रही है। वेरिफिकेशन में कितना समय लगेगा , इसका किसी के पास कोई पुख्ता जवाब नहीं था । ड्राइवरों के लाइसेंस रिन्यू नहीं होने का असर शिक्षा पर भी पड़ने लगा । हजारों बच्चों की फ़ीस तक इस रोजगार के छीन जाने की वजह से अभिभावक नहीं भर पा रहे थे । गनीमत रही की सरकार ने अनपढ़ चालकों की बड़ी संख्या को देखते हुए लाइसेंस बनवाने तथा रिन्यू करने का रास्ता निकाल दिया। आपको बता दें कि नूह जिले में सूबे में सबसे ज्यादा ड्राईवर हैं , लेकिन इनमें अधिकतर अनपढ़ हैं। पिछले करीब 7 वर्षों से इन चालकों के लाइसेंस रिन्यू नहीं हो पा रहे थे , नए लाइसेंस बनना तो बड़ी बात थी। जब भी कोई राजनैतिक जनसभा होती तो उसमें चालक लाइसेंस का मुद्दा सबसे पहले उठता था। मेवात के लोगों ने सरकार के इस कदम की दिल से सराहना की है और सरकार का आभार जताया है। एडीसी एवं आरटीए विवेक पदम सिंह ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि केंद्र सरकार के आदेश के बाद उनके दफ्तर में लाइसेंस न केवल रिन्यू होने लगे हैं बल्कि नए लाइसेंस भी अब अनपढ़ लोग बनवा सकते हैं। समाजसेवी रमजान चौधरी एडवोकेट एवं याहया सैफी ने भी सरकार  कदम का स्वागत करते हुए इसे नूह जिले के लोगों को एक सौगात करार दिया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।