गाड़ी की फ्रंट सक्रीन पर स्टिकर है तो दूर से खुल जाएगा टोल बैरियर
December 19th, 2019 | Post by :- | 79 Views

शिमला – आपके वाहन की फ्रंट स्क्रीन पर यदि फास्टैग लगा है, तो आपको टोल प्लाजा पर वाहन रोकने की जरूरत नहीं। आपके वाहन को दूर से ही देखकर टोल प्लाजा पर बैरियर खुद व खुद खुल जाएगा। यहां कतार में लगे रहकर न तो वाहन चालक को इंतजार करना होगा और न ही व्यर्थ में इतनी देर तक पेट्रोल या डीजल फूंकना होगा।     इस तरह की व्यवस्था देश भर में शुरू हो गई है और हर टोल प्लाजा को इसके दायरे में लाया जा रहा है। फास्टैग को लेकर लोगों में कई तरह की भ्रांतियां हैं, पर बता दें कि इससे वाहन मालिकों को सुविधा होने वाली है। फॉस्टैग एक तरह का क्यूआर कोड है, जो आपके वाहन की फं्रट स्क्रीन पर स्टिकर के रूप में होगा। इसमें आरएफआईडी कोड या टैग दर्ज होगा, जो आपके वाहन की पहचान को सुनिश्चित बनाएगा। टोल प्लाज पर लगा सेंसर दूर से ही उसे रीड कर लेगा और कम्प्यूटर देखेगा कि इस नंबर ने पहले से टोल प्लाजा का शुल्क भर रखा है या नहीं। क्योंकि यह प्री-पेड होगा और शुल्क पहले से भरा होने के चलते टोल प्लाजा पर पहुंचने से पहले ही वाहन के लिए रास्ता खुल जाएगा। हिमाचल प्रदेश के लोगों को इंटर स्टेट बैरियर पर जाने के लिए यह फास्टैग जरूरी होगा। क्योंकि यदि यह फास्टैग नहीं होगा और एडवांस में शुल्क नहीं भरा होगा, तो टोल प्लाजा पर पहुंचकर अतिरिक्त शुल्क देना पड़ सकता है, जिसे जुर्माने के रूप में देखा जा सकता है। यह जुर्माना कितना होगा यह अभी तय नहीं है।

टैक्सियों के लिए फायदेमंद

फास्टैग लगाने के लिए नेशनल हाई-वे अथारिटी मुफ्त में टैग दे रही है, जिसमें ऑनलाइन पैसे डालने होंगे। यह एक तरह का अकाउंट होगा। बैंकों में भी फास्ट टैग दिया जा रहा है, जहां पर लोगों को कतारों में खड़े होकर यह लेना पड़ रहा है। बैंकों ने आगे बेंडर भी इसके लिए रखे हैं। फास्ट टैग चार पहिए वाले छोटे वाहनों के लिए होगा। टैक्सी वालों के लिए यह सबसे फायदेमंद हैं, जिनको प्रदेश से बाहर आना-जाना पड़ता है।

पांच साल होगी वैधता

गाड़ी में लगा फास्टैग स्टिकर आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना कार्य शुरू कर देगा। जब आपके फास्टैग अकाउंट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा। फास्टैग की वैधता पांच वर्ष की होगी, यानी पांच साल बाद आपको नया फास्टैग गाड़ी पर लगवाना होगा।

अकाउंट इस तरह होगा रिचार्ज

आप क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग के माध्यम से अपने फास्टैग अकाउंट को रिचार्ज कर सकते हैं। फास्ट टैग खाते में कम से कम 100 और ज्यादा से ज्यादा एक लाख रुपए तक का रिचार्ज कराया जा सकता है।

बैरियर पर इंतजार नहीं करना पड़ेगा

फास्टैग से टोल प्लाजा पर वाहनों की भीड़ नहीं दिखेगी। टोल प्लाजा के पैसे की कलेक्शन पहले से ऑन लाइन होगी। बैरियर पर वाहन खड़ा करने से जो तेल की बर्बादी होती है वह नहीं होगी वहीं किसी ने जल्दी पहुंचना है तो वह बिना रूके जा सकता है।

क्या है फास्टैग?

फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है। इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) का इस्तेमाल होता है। इस टैग को गाड़ी की विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है। जैसे ही गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर फास्टैग को ट्रैक कर लेता है और फास्टैग अकाउंट से टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है।

ऐसे मिलेगा फास्टैग

फास्टैग लेने के लिए आप किसी भी प्वाइंट ऑफ सेल के अंदर आने वाले टोल प्लाजा और एजेंसी में जाकर अपना फास्टैग स्टिकर और अकाउंट खुलवा सकते हैं। एनएचएआई की वेबसाइट पर जाकर आप अपने आसपास के प्वाइंट ऑफ सेल की जगह पता कर सकते हैं। इसके अलावा विभिन्न बैंकों में भी यह सुविधा उपलब्ध है।

इस तरह भी खोल सकते हैं अकाउंट

फास्टैग प्रीपेड खाता खोलने के लिए बैंक की ऑनलाइन फास्टैग एप्लीकेशन पर जाएं। पास्टैग आपका अकाउंट बैंक के साथ संबंध होना जरूरी नहीं है। अकाउंट खोलने के वक्त आपको दिए गए एक फॉर्म के साथ वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र (आरसी), वाहन मालिक का पासपोर्ट साइज फोटो और केवाईसी दस्तावेज और एड्रेस प्रूफ के साथ भरने होंगे। आवेदन जमा करने के बाद आपका फास्ट टैग अकाउंट बन जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।