आढ़तिये द्वारा बार बार पैसे मांगकर तंग परेशान करने के चलते किसान ने की आत्महत्या ।
December 16th, 2019 | Post by :- | 138 Views

आढ़तिया द्वारा पैसे मांगने से परेशान किसान ने की आत्म हत्या ,पुलिस ने किया पिता व पुत्रों समेत 3 के खिलाफ मामला दर्ज ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
पुलिस को दी गई शिकायत में गज्जन सिंह पुत्र परमजीत सिंह ने बताया कि वह शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में बतौर ग्रन्थी अखंड पाठ की ड्यूटी करता है ।उसने बताया कि उसके पिता परमजीत सिंह की 15 कनाल 11 मरले ज़मीन है ।उसका पिता परमजीत सिंह अपनी ज़मीन की फसल हर सीज़न पर 15 वर्ष से दर्शन सिंह पुत्र जोगिंदर सिंह निवासी गांव मंडीयाला कमलियाँ नज़दीक पट्टी हाल निवासी गुरबक्श सिंह नगर की आढ़त पर बेचता था ।करीब 6 वर्ष से उसके पिता ने दर्शन सिंह की आढ़त पर फ़सल बेचनी बंद कर दी ।उसने बताया कि वर्ष 2015 में उसके पिता ने दर्शन सिंह से 1 लाख 45 हज़ार रुपये ब्याज पर लिए थे ।परमजीत सिंह ने दर्शन सिंह को सेफ्टी के तौर पर स्टेट बैंक ऑफ पटियाला के चेक दिए थे ।आढ़ती दर्शन सिंह नर एक चेक 3 लाख रुपये का भरकर अदालत में लगा दिया था जो बाद में आपस मे राजीनामा होने पर 3 लाख 15 हज़ार में तय हो गया ।इसमें परमजीत सिंह ने दर्शन सिंह आढ़तिये को 2 लाख 96 हज़ार रुपये दे दिए थे ।इसमें 19 हज़ार का बकाया रहता था ।लेकिन दर्शन सिंह ने चेक वापिस नही किया औऱ फिर मई2019 को दर्शन सिंह ने दूसरा चेक 3 लाख 15 हज़ार रुपये का अदालत में लगा दिया ।इसकी अगली पेशी पर दर्शन सिंह ने परमजीत सिंह से तीन कनाल ज़मीन उससे खाली अशटाम पेपर पर दस्तख़त करवा कर अपने पास रखवा लिए ।इसके चलते परमजीत सिंह परेशान रहने लगा ।वह अपने घरवालों को बार बार यही कहता कि दर्शन उसे बहुत ज्यादा परेशान कर रहा है।इससे तो मर जाना अच्छा है ।इसके बाद परमजीत सिंह अचानक बेहोश हो गया जिसे उसका छोटा बेटा सतविंदर हस्पताल लेकर जा रहा था कि उसकी ररास्ते मे मौत हो गई ।मृतक के परिजनों के बयान के आधार पर पुलिस थाना चाटीविंड में दर्शन सिंह पुत्र जोगिंदर सिंह ,अजयपाल सिंह पुत्र दर्शन सिंह ,औऱ अमरपाल सिंह पुत्र दर्शन सिंह के खिलाफ 306 के तहत मामला दर्ज कार्रवाई शुरू कर दी है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।