जनविरोधी भाजपा सरकार का फुका पुतला
August 26th, 2019 | Post by :- | 106 Views

अंबाला , बराड़ा  ( जयबीर राणा थंबड )

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार में किसानों के साथ हो अत्यचार के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया। हल्का के गाँव दुराना मे प्रदेश कांग्रेस सचिव वरुण चौधरी की अध्यक्षता में में आयोजित कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर भाजपा सरकार का पुतला दहन किया।

चौधरी ने भाजपा सरकार को जनविरोधी करार देते हुए कहा कि हरियाण प्रांत का मिट्टी से सोना पैदा करने वाला किसान और खेत मजदूर पीड़ित, व्यथित और आंदोलित है।पिछले चार दिन से नारायणगढ़ में किसान अपनी गन्ने की फसल की पेमेंट को लेकर जल सत्याग्रह आंदोलन कर रहे है और सरकार किसानों की इन परेशानियों की तरफ कोई ध्यान नहीं दे रही है।चौधरी ने कहा कि भाजपा की सरकार ने किसानों से वायदा किया था कि उनकी सरकार बनने पर स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू किया जाएगा व किसानों को फसल की लागत का 50 फीसदी मुनाफा दिया जाएगा सरकार बनने के बाद भाजपा सरकार ने वायदे को भूलाकर किसानों की पीठ में खंजर घोंपने का काम किया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने चार साल में किसानों को बेहाल कर दिया गया है भाजपा पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए चौधरी ने कहा कि इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि जब किसी सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र पर टैक्स लगाया गया हो। भाजपा ने पेट्रोल व डीज़ल पर भारी टैक्स लगाए, जिसके चलते डीज़ल व पेट्रोल भाव बढ़े है चौधरी ने कहा कि किसान की फसल खराब होती है तो केन्द्र व खट्टर सरकार कहती है कि हमने फसल बीमा योजना लागू की है पर आज तक किसी किसान को नुकसान हुई फसल का मुआवजा नही मिला है किसान को फ़सल बीमा कंपनी का ही मालूम नही है क्योंकि आज तक सरकार कोई भी दफ्तर फसल बीमा कंपनी कही भी खोल नही पाई है जिसके कारण किसान परेशान हैं इस दौरान ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष राज मोहन सिंह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि जब से देश व प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी हैं, तब से किसानों के लिए परेशानियां पैदा हो रही हैं। जबकि कांग्रेस के शासन में ऐसा नहीं था। किसान खुशहाल थे। आने वाले समय मे किसान इस तानाशाही भाजपा सरकार की बातों में न आकर इसे प्रदेश की सत्ता से बाहर करेंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।