सूरतेहाल इन्दौरा,, लोपिंग की आड़ में सरकारी आदर्श स्कूल इन्दौरा में काट दिया हजारों की कीमत का  सफेदे का पेड़
December 15th, 2019 | Post by :- | 331 Views
गगन ललगोत्रा (व्यूरो कांगड़ा)
राजकीय आदर्श सीनियर सेकेंडरी स्कूल (लड़के) इन्दौरा  में वर्षो पहले लगाए गए एक सफेदे के पेड़ पर लोपिंग की आड़ में कुलहाडी चलाने का मामला सामने आया है । इस स्कूल में  एक सफेदे के पेड़ काटे जाने की खबर की जनता में काफी चर्चा हो रही है और इसको लेकर काफी वाह वाही लूट रही है । सफेदे का पेड़ वर्षो पुराना होने के चलते इसमें कई किबाँटलो के हिसाब से इमारती लकड़ी थी। ओर संबंधित स्कूल प्रसाशन ओर ठेकेदार ने बिना बन बिभाग की अनुमति लिए इस पेड़ को बुरी तरह से काटकर बेकार कर डाला  ओर हजारों रुपए की लकड़ी को बेचकर डकार गया । अगर स्कूल प्रशाशन ओर ठेकेदार की माने तो उन्होंने कहा के हमने सिर्फ इस पेड़ की लापिंग ही करबाई है जोकी स्कूल के भबन के लिए खतरा बना हुआ था । जब इसके बारे में पेड़ काटने बाले व्यक्ति से बात हुई थी तो उसने एक स्थानीय ठेकेदार का नाम लेकर बोला के उन्होंने हमें इसको काटने के लिए बोला था। लोगो का कहना है के यह किस तरह की सफेदे के पेड़ की लोपिंग की गई है और जिससे लगभग तीन ट्रालियों लकड़ी की इस पेड़ से काटी गई है जितनी बुरी तरह से इस पेड़ को काटकर बर्बाद किया है इससे अच्छा तो उसको पूरी तरह से काट देना चाहिए था।ओर मात्र कुछ ही फुट सफेदे का पेड़ खड़ा मिल रहा है । बही इस सफेदे के  पेड़ के  कटान से पेड़ काटू स्कूल से इससे काटी गई दो से तीन ट्राली लकड़ियों की भरकर ले गए और उसे मार्कीट में बेच दिया । लोगों ने यह भी बात कही के अगर लोपिंग करबानी थी इसको कटबाने के लिए स्कूल प्रशाशन ने टेंडर परिक्रिया को आज जन में सार्बजनिक क्यो नही किया । जबकी इसको कटबाने के लिए ठेकेदारों से टेंडर आमंत्रित करने चाहिए थे । यह सब बातें इन्दौरा में चर्चा का विषय बनी हुई है और स्कूल प्रशाशन पर सबालिया निशान खड़े कर रही है
बही इस संबंध में जब  इन्दौरा स्कूल के प्रिंसिपल अनिल कटोच से बात की गई तो उन्होंने कहा के पेड़ बड़ा होने के कारण स्कूल के भबन को खतरा उत्पन हो रहा था ओर इस बात को लेकर इसकी शाखायो को कटबाने के लिए मैंने  बन बिभाग इंदौरा के गार्ड को इसकी मंजूरी लेने के लिए पत्र दिया था और सभी सरकारी कारबाई को पूरा करके ही इसकी लापिंग करबाई गई है। ओर अभी तक लापिंग का कार्य करबाने बाले ठेकेदार से इसकी बनती 4000 हजार रुपए राशि भी लेनी बाकी है
इस संबंध में जब बन रक्षक इन्दौरा जतिंदर कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा के स्कूल के प्रिंसिपल के माध्यम से हमे इस सफेदे के पेड़ को लापिग करबाने के लिए मंजूरी हेतु पत्र आया है और स्कूल द्वारा सभी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद ही इस पेड़ की लापिंग की गई

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।