दिल्ली में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री ने ली बैठक, श्रीगंगानगर जिले से बड़ी संख्या में पहुंचे प्रतिनिधि।
December 13th, 2019 | Post by :- | 97 Views

लोकहित एक्सप्रैस(सतनाम मांगट)।भारतीय किसान संघ द्वारा इंदिरा गांधी नहर परियोजना में चार ग्रुप समूह अनुसार सिँचाई पानी की मांग को लेकर 6 दिसंबर से मुख्य अभियंता कार्यालय हनुमानगढ़ के समक्ष आंदोलन आज भी जारी रहा इस दौरान केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह ने  आज संगठन के साथ श्रम भवन नई दिल्ली में बैठक आयोजित  की जिसमें जिलाध्यक्ष जसवंत सिंह चंदी प्रांत उपाध्यक्ष सत्यनारायण गोदारा प्रांत महामंत्री विनोद धारणिया हनुमानगढ़ जिला मंत्री संजय गोदारा बीकानेर जिला अध्यक्ष कैलाश जाजड़ा व जिला मंत्री शंभू सिंह उपस्थित रहे साथ ही इलाके के जनप्रतिनिधि विधायक बलवीर सिंह लूथरा रामप्रताप काशनिंया विधायक बिहारीलाल बिश्नोई नोखा विधायक,संतोष बावरी, धर्मेंद्र मोची ,सुशील गोदारा, कैलाश मेघवाल मंत्री अर्जुनराम संसदीय कार्य मंत्री बीबीएमबी के चेयरमैन डीके शर्मा गुरदीप शाहपिनी विधायक संगरिया, संगठन ने पुरजोर शब्दों में वर्तमान में डैम के राजस्थान के  शेयर के आंकड़े रखें आगामी नहर बंदी को देखते हुए सिंचाई पानी देने की मांग की जिसे बीबीएमबी के चेयरमैन ने स्वीकार कर कहा की चीफ हनुमानगढ़ अपने हिस्से के पानी की मांग भेजे तो  हम  देने के लिए तैयार है, जलशक्ति मंत्री ने तुरंत सिंचाई सचिव राजस्थान सरकार से फोन पर बात कर 17 तारीख को जल परामर्श दात्री की बैठक बुलाने के आदेश दिए,तथा चीफ हनुमानगढ के बैठक में नहीं पहुचने पर नाराजगी जताई कि चीफ आज ईतना बड़ा हो गया क्या जो बैठक में आना उचित नहीं समझता, संगठन ने पंजाब को छोड़ा गया  6 एम.ए.एफ पानी एवं बीबीएमबी में राजस्थान का प्रतिनिधि नियुक्त करने की मांग पर मंत्री महोदय ने जल्दी ही संगठन के साथ बैठक बुलाने का आश्वासन दिया इंदिरा गांधी नहर परियोजना में अब किसानों के लगातार पानी मिलने का आश्वासन बीबीएमबी चेयरमैन ने दिया एवं कहा कि चीफ हनुमानगढ़ जितनी डिमांड भेजेंगे हम पानी देनें को तैयार हैं, 16 दिसंबर को हनुमानगढ़ में संगठन द्वारा बड़ी बैठक बुलाई गई है, वह चिफ को वार्ता से अवगत कराकर 17 दिसंबर की बैठक के वरीयता क्रम तय करने के लिए आग्रह किया जाएगा, भारतीय किसान संघ के संघर्ष से किसानों को बड़ी सफलता मिली है आगे भी किसान हित में संघर्ष जारी रखेंगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।